कृषि कानूनों के खिलाफ प्रदर्शन कर रहे किसानों द्वारा आज ट्रैक्टर रैली निकाली जा रही है. ऐसे में सुप्रीम कोर्ट ने किसान आंदोलनों पर चिंता जताई है. सुप्रीम कोर्ट ने केंद्र सरकार से सवाल किया है कि क्या कोरोना नियमों का इस दौरान पालन किया जा रहा है. मुख्य न्यायधीश एसए बोबड़े ने कहा कि हमें यह नहीं पता कि किसान कोरोना वायरस से सुरक्षित हैं या नहीं है, लेकिन अगर कोरोना नियमों का उचित तरीके से पालन नहीं किया गया तो तबलीगी जमात की तरह की ही दिक्कतें हो सकती हैं.Also Read - दिल्ली के कंस्ट्रक्शन मजदूरों को 5000 रुपये देगी केजरीवाल सरकार, जानें पूरी डिटेल

गौरतलब है कि मार्च महीने में जब लॉकडाउन की शुरुआत हुई थी, इसी दौरान तबलीगी जमात का मामला प्रकाश में आया था. जहां निजामुद्दीन स्थित मरकज में कोविड 19 के नियमों में लापरवाही पाई गई थी. जिसके बाद कई राज्यों में जमात लोग पहुंचे थे, जिन्हें राज्य सरकारों द्वारा ढूंढ-ढूंढकर निकाला गया. ऐसे में तबलीगी जमात की लापरवाही को लेकर कई तरह के सवाल भी खड़े किए गए थे. Also Read - राकेश टिकैत ने कहा- लोकसभा में कृषि कानून वापस होना 750 मृत किसानों को श्रद्धांजलि, MSP के लिए डटे रहेंगे

किसान मामले पर ही सुनवाई करते हुए मुख्य न्यायधीश ने कहा कि केंद्र सरकार बताए कि क्या हो रहा है. किसान कोरोना से सुरक्षित हैं या नहीं ये हमें नहीं पता है. लेकिन किसान प्रदर्शन में तबलीगी जमात जैसी समस्या देखने को मिल सकती है. इसपर सॉलिसिटर जनरल तुषार मेहता ने कहा कि हम हालात के बारे में जानने की कोशिश करेंगे. Also Read - Pollution: सुप्रीम कोर्ट ने पूछा, क्या सेंट्रल विस्टा के कारण दिल्ली में प्रदूषण बढ़ रहा है, मेट्रो को भी दिया ये आदेश