नई दिल्ली: कांग्रेस ने साल 2016 में सेना द्वारा की गई सर्जिकल स्ट्राइक की दूसरी वर्षगांठ के मौके पर शुक्रवार को नरेंद्र मोदी सरकार पर सैनिकों की वीरता एवं बलिदान पर राजनीति करने का आरोप लगाया. पार्टी ने दावा किया कि प्रधानमंत्री एवं उनकी सरकार राष्ट्रीय सुरक्षा के साथ खिलवाड़ कर रहे हैं. Also Read - राहुल गांधी ने गुजरात कांग्रेस कार्यकर्ताओं से कहा, चक्रवात 'वायु' के मद्देनजर लोगों की मदद के लिए तैयार रहें

पार्टी के मुख्य प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला ने यह भी आरोप लगाया कि प्रधानमंत्री जवानों की वीरता का श्रेय लेते हैं, लेकिन जब उनके हितों की बात आती है तो वह उनके साथ ‘विश्वासघात’ करते हैं. कई पूर्व सैनिकों की मौजूदगी वाले संवाददाता सम्मेलन में सुरजेवाला ने कहा, ‘‘कांग्रेस की ओर से हम हमारे सैनिकों के शौर्य और बहादुरी को सलाम करते हैं. 1947, 1962, 1965, 1971 और 1999 के युद्ध में हमारे सैनिकों ने अपनी वीरता से देश का सिर गर्व से ऊंचा किया. पूरा देश उनके बलिदान का ऋणी है.’’ Also Read - इस्तीफे की ख़बरों का राहुल ने किया खंडन, बोले- ये मुद्दा मेरे और कांग्रेस कार्यकारिणी के बीच का

उन्होंने आरोप लगाया, ‘‘प्रधानमंत्री ‘देशिहत’ व ‘राष्ट्रीय सुरक्षा’ के साथ खिलवाड़ कर रहे हैं. भाजपा सैनिकों की कुर्बानी के नाम पर वोट बटोरती है, लेकिन जब जवानों के हितों की बात आती है तो प्रधानमंत्री मोदी उनके साथ विश्वासघात करते हैं.’’ Also Read - क्या राहुल गांधी के पास है ब्रिटेन की नागरिकता? 22 अप्रैल तक रद्द हो सकता है नामांकन

हरियाणा कांग्रेस में गुटबाजी नहीं, जरूरत पड़ने पर सभी नेता दिखेंगे एक मंच पर: पीसीसी चीफ तंवर

कांग्रेस नेता ने कहा कि भारत के वीर सैनिकों ने पिछले कुछ वर्षों में कई बार सर्जिकल स्ट्राइक की और पाकिस्तान के दांत खट्टे किए. उन्होंने कहा, ‘‘हमारे जवानों ने 21 जनवरी, 2000 (नडाला एनकलेव, नीलम नदी के पार), 18 सितंबर, 2003 (बरोह सेकटर, पुंछ), 19 जून, 2008 (भट्टल सेक्टर, पुंछ, 30 अगस्त- 1 सितंबर, 2011 (शारदा सेक्टर, नीलम नदी घाटी); 6 जनवरी, 2013 (सावन पत चेकपोस्ट); 27-28 जुलाई, 2013 (नाजापीर सेक्टर), 6 अगस्त, 2013 (नीलम घाटी); 14 जनवरी, 2014 (23 दिसंबर, 2013 को सर्जिकल स्ट्राइक की.’’

अमित शाह के खिलाफ आचार संहिता के उल्लंघन का केस इलाहाबाद की स्‍पेशल कोर्ट में ट्रांसफर

सुरजेवाला ने कहा, ‘‘28-29 सितंबर, 2016 की सर्जिकल स्ट्राइक के बाद सोनिया गांधी और राहल गांधी ने आतंक के ढांचे को ध्वस्त करने के लिए हमारे सैनिकों की प्रशंसा की थी और साहस बढाया था. जबकि भाजपा और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी हमारे जवानों के शौर्य पर राजनीतिक रोटियां सेंकने का काम करते हैं.’’