नई दिल्ली: महाराष्ट्र सरकार ने सुप्रीम कोर्ट में बॉलीवुड एक सुशांत सिंह राजपूत की मौत की जांच रिपोर्ट सीलबंद कवर में दाखिल की है. सूत्रों के अनुसार, राज्य सरकार ने अब तक की गई जांच का ब्योरा पेश किया है. इसके अलावा वह एक अलग हलफनामा भी दायर करेगी. Also Read - केंद्रीय मंत्री ने कहा- महाराष्ट्र में BJP के साथ सरकार बनाए शिवसेना, तो उद्धव ठाकरे को...

शीर्ष अदालत ने सुशांत मामले की सुनवाई की तारीख 11 अगस्त तय की है. अदालत ने पांच अगस्त को महाराष्ट्र सरकार से रिया चक्रवर्ती की याचिका पर सुनवाई के बाद जवाब मांगा था, जिसमें रिया ने मामले को पटना से मुंबई स्थानांतरित करने की मांग की थी. Also Read - CM अमरिंदर सिंह का बड़ा ऐलान, नए कृषि कानूनों को लेकर उच्चतम न्यायालय जाएगी पंजाब सरकार

वहीं, सुशांत सिंह राजपूत मौत मामले पर महाराष्ट्र के गृह मंत्री ​अनिल देशमुख ने कहा, सुप्रीम कोर्ट में 11 अगस्त को मामले की ​अंतिम सुनवाई होगी, फैसले के हिसाब से कार्रवाई होगी. मुंबई पुलिस बहुत प्रोफेशनल तरीके से जांच कर रही है, सुप्रीम कोर्ट का जो भी फैसला होगा उस हिसाब से हम आगे बढ़ेंगे. Also Read - Sri Krishna Janmabhoomi Dispute: श्रीकृष्ण जन्मभूमि मामले में अगली सुनवाई 30 सितंबर को, जानें क्या है विवाद

सुशांत सिंह राजपूत के पिता के.के. सिंह ने शनिवार को एक जवाबी हलफनामे में सुप्रीम कोर्ट को सूचित किया कि रिया ने पहले ही मामले से जुड़े गवाहों को प्रभावित करना शुरू कर दिया है और सीबीआई जांच पर भी यू-टर्न ले लिया है. सिंह ने यह भी कहा कि रिया भी पहले सीबीआई जांच चाहती थी, लेकिन वह अब इसका विरोध क्यों कर रही हैं.

सिंह ने कहा कि रिया के बारे में मेल एक सवाल उठाता है कि अगर ईमेल को सिद्धार्थ पिठानी द्वारा मुंबई पुलिस को भेजा गया था, तो वही मेल संभावित गवाह द्वारा रिया के साथ क्यों साझा किया गया, जो इस मामले में एक प्रमुख संदिग्ध है.

अधिवक्ता नितिन सलूजा के माध्यम से दायर हलफनामा में कहा गया, “ईमेल को एफआईआर दर्ज होने और मामले को स्थानांतरित करने संबंधी याचिका दाखिल होने से एक दिन पहले भेजा गया है और इस प्रकार उक्त ईमेल संभावित गवाह से याचिकाकर्ता (रिया) द्वारा खरीदा मालूम पड़ता है, जिससे लगता है कि वह पहले से ही उनके (रिया) प्रभाव में है.”