Sushant Singh Rajput Case: सुप्रीम कोर्ट ने सुशांत सिंह राजपूत (SSR Death Case) मौत की जांच सीबीआई (CBI) को सौंप दी है.  कोर्ट ने मुंबई पुलिस को आदेश दिया है कि वह केस से जुड़े सभी दस्तावेज सीबीआई को उपलब्ध कराए. बता दें कि दो राज्यों के बीच उलझे इस मामले पर 11 अगस्त को सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई पूरी हुई थी और फैसला सुरक्षित रखा गया था. मालूम हो कि सुशांत सिंह राजपूत (Sushant Singh Rajput) 14 जून को मुंबई के अपने फ्लैट में मृत पाए गए थे. बता दें कि मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने सुशांत सिंह राजपूत के परिवार के अनुरोध पर CBI जांच की अनुशंसा की थी. Also Read - उद्धव ठाकरे की नकल करना पड़ा महंगा, मुंबई पुलिस ने पकड़ा यू-ट्यूबर साहिल चौधरी

फैसले के बाद वकील विकास सिंह ने इसे सुशांत सिंह राजपूत के परिवार की जीत बताया.  उन्होंने कहा कि, ‘यह सुशांत सिंह राजपूत के परिवार की जीत है. उन्होंने कहा, सुप्रीम कोर्ट ने हमारे पक्ष में सभी बिंदुओं पर फैसला सुनाया. कोर्ट ने यह भी स्पष्ट रूप से कहा कि पटना में दर्ज एफआईआर सही थी.

विकास सिंह ने बताया कि, ‘इसके साथ-साथ सुप्रीम कोर्ट ने यह भी कहा कि सुशांत सिंह राजपूत की मौत के सिलसिले में दर्ज किसी अन्य एफआईआर की भी सीबीआई जांच की जाएगी. हमें उम्मीद है कि हमें बहुत जल्द न्याय मिलना चाहिए. फैसले से परिवार बहुत खुश है.

फैसले के बाद बिहार के डीजीपी गुप्तेश्वर पांडे ने कहा कि मैं सुप्रीम कोर्ट के फैसले से खुश हूं. केस में जो भी सत्य होगा अब वह सामने आएगा.

मैं बहुत ख़ुश हूं. सर्वोच्च न्यायालय के आदेश से कोर्ट का लोगों पर भरोसा मजबूत हुआ है. सुप्रीम कोर्ट ने देश को भरोसा दिलाया है कि सुशांत सिंह राजपूत की मौत के मामले में न्याय मिलेगा.

बता दें कि सुप्रीम कोर्ट के फैसले से पहले सुशांत की बहन श्वेता सिंह कीर्ति ने इंस्टाग्राम एक पोस्ट किया था. श्वेता ने महाभारत की तस्वीर को शेयर किया, जिसमें भगवान श्रीकृष्ण रथ चला रहे हैं और अर्जुन अपने धनुष को संभाले हुए हैं. श्वेता ने तस्वीर को शेयर करते हुए लिखा, हमें अंधकार से प्रकाश की ओर ले चलिए शरणागति.

 

View this post on Instagram

 

‪Lead Us from darkness unto LIGHT! Sharnagati #GlobalPrayers4SSR #Godiswithus ‬

A post shared by Shweta Singh kirti (@shwetasinghkirti) on

सुशांत के पिता ने दर्ज कराई थी FIR
सुशांत सिंह राजपूत के पिता कृष्ण किशोर सिंह ने पटना में दर्ज करायी इस FIR में रिया चक्रवर्ती और उनके परिवार के सदस्यों सहित 6 व्यक्तियों पर अप ने बेटे को खुदकुशी के लिए मजबूर करने सहित कई गंभीर आरोप लगाये हैं. सुशांत सिंह राजपूत 14 जून को मुंबई के बांद्रा में अपने अपार्टमेंट में मृत पाए गए थे. मुंबई पुलिस विभिन्न पहलुओं को ध्यान में रखते हुए इस मामले की जांच कर रही है.

बिहार सरकार ने क्या कहा था?
बिहार सरकार ने इस मामले में सुप्रीम कोर्ट से कहा था कि ‘राजनीतिक प्रभाव’ की वजह से मुंबई पुलिस ने अभिनेता राजपूत के मामले में प्राथमिकी तक दर्ज नहीं की है. दूसरी ओर, महाराष्ट्र सरकार की दलील थी कि इस मामले में बिहार सरकार को किसी प्रकार का अधिकार नहीं है. बिहार सरकार की तरफ से यह भी दावा किया गया था कि मुंबई पुलिस ने उसे न तो सुशांत सिंह राजपूत की पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट की प्रति उपलब्ध कराई और न ही उसने अभी तक इस मामले में कोई प्राथमिकी ही दर्ज की है. बिहार सरकार का दावा था कि अभिनेता सुशांत सिंह राजपूत की मौत को लेकर पटना में दर्ज कराई गई FIR विधि सम्मत और वैध है.

रिया के वकील का दावा
रिया चक्रवर्ती (Rhea Chakraborty) के वकील का कहना था कि मुंबई पुलिस की जांच इस मामले में काफी आगे बढ़ चुकी है और उसने 56 व्यक्तियों के बयान दर्ज किए हैं. वहीं, इसके विपरीत, राजपूत के पिता की ओर से वरिष्ठ अधिवक्ता विकास सिंह का कहना था कि उनका महाराष्ट्र पुलिस में भरोसा नहीं है. उनका कहना था कि इस मामले की जांच सीबीआई को सौंपने की पुष्टि की जाए और मुंबई में महाराष्ट्र पुलिस को इस मामले में सीबीआई को हर तरह से सहयोग करने का निर्देश दिया जाए.

केंद्र की दलील
मामले में केंद्र सरकार की ओर से सॉलिसीटर जनरल तुषार मेहता ने कहा था कि मुंबई में तो कोई प्राथमिकी दर्ज नहीं की गई है और दंड IPC की धारा 154 के तहत प्राथमिकी दर्ज करने और मजिस्ट्रेट को इसकी जानकारी दिये बगैर कोई जांच ही नहीं की जा सकती. केंद्र ने कहा था कि इस मामले को सीबीआई को सौंपने की बिहार सरकार की सिफारिश स्वीकार कर ली गई है और इस संबंध में आवश्यक अधिसूचना भी जारी हो गई है.

(इनपुट: भाषा)