नई दिल्ली: विदेश मंत्री सुषमा स्वराज को शनिवार को ट्विटर पर फिर से ट्रोल किया गया और उन पर मुस्लिम तुष्टिकरण का आरोप लगा. सुषमा के पति स्वराज कौशल ने एक ट्विटर यूजर की पोस्ट की स्क्रीनशॉट ट्वीट करके बताया कि इस पोस्ट में उनसे (कौशल) से कहा गया है कि वह मंत्री को ‘मुस्लिम तुष्टिकरण’ नहीं करने के बारे में समझाएं. विदेश मंत्री ने भी इस व्यक्ति के कुछ ट्वीटों को फिर से ट्वीट किया. इससे कुछ ही दिन पहले सुषमा को पासपोर्ट जारी करने को लेकर विवाद के सिलसिले में ट्रोल किया गया था. यह पासपोर्ट उस महिला को जारी किया था, जिसने अन्य धर्म के मतावलंबी से विवाह किया था. Also Read - रैपर बादशाह ने फर्जी सोशल मीडिया लाइक्स और फॉलोअर्स बढ़ाने के लिए 75 लाख रुपए दिए थे

इस दंपति ने लखनऊ के पासपोर्ट सेवा केन्द्र में कार्यरत विकास मिश्रा पर उन्हें पासपोर्ट आवेदन को लेकर अपमानित करने का आरोप लगाया था। विवाद के बाद मिश्रा का स्थानांतरण कर दिया गया। इस दंपति ने दावा किया कि मिश्रा ने महिला के पति से कहा कि वह हिंदू धर्म अपना ले. अधिकारी पर यह भी आरोप लगाया कि उसने महिला को एक मुस्लिम से विवाह करने को लेकर आड़े हाथ लिया.

बाद में पुलिस एवं एलआईयू (स्थानीय खुफिया इकाई) की रिपोर्ट में पाया गया कि महिला ने जो पता दिया था, वह उस जगह पिछले एक साल से नहीं रह रही थी. सोशल मीडिया के एक वर्ग ने मिश्रा के खिलाफ कार्रवाई के लिए सुषमा एवं मंत्रालय पर हमला बोला और कहा कि वह तो महज अपनी ड्यूटी कर रहा था. इस बारे में जो भी ट्वीट किए गए, उनमें से कई को सुषमा ने फिर से ट्वीट किया.

यह पूछे जाने पर कि क्या मंत्रालय ट्रोल करने वालों के खिलाफ किसी कार्रवाई पर विचार कर रहा है, विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता रवीश कुमार ने कहा, ”विदेश मंत्रालय ने इस प्रकार के दुर्भावनापूर्ण ट्वीट और ट्रोल करने का अपने तरीके से जवाब दिया था. मुझे नहीं लगता कि मेरे पास इस बारे में कहने के लिए कुछ और है.”
(इनपुट: एजेंसी)