नई दिल्ली: केरल के सबरीमाला मंदिर में हर उम्र की महिलाओं को प्रवेश संबंधी सुप्रीम कोर्ट के फैसले का समर्थन कर रहे भागवत गीता स्कूल के निदेशक स्वामी संदीपानंद गिरी के आश्रम पर शुक्रवार रात अज्ञात लोगों ने हमला कर दिया. हमलावरों ने आश्रम में रखी दो कारों और एक बाइक को आग के हवाले कर दिया. बदमाशों ने मठ के सामने एक संपत्ति में भी तोड़फोड़ की. आश्रम को चलाने वाले संत ने पिछले दिनों सबरीमाला मंदिर में महिलाओं के प्रवेश पर सुप्रीम कोर्ट के फैसले का समर्थन किया था.केरल के मुख्यमंत्री पिनराई विजयन ने इस घटना पर कड़ी प्रतिक्रिया व्यक्त की है. उन्होंने कहा है कि लोगों के विचार अलग हो सकते हैं, लेकिन किसी को भी कानून से खिलवाड़ करने की इजाजत नहीं दी जा सकती. दोषी के खिलाफ कड़ी कार्रवाई की जाएगी.

स्वामी संदीपानंद गिरी का आश्रम तिरुअंतपुरम के बाहरी इलाके में है. आश्रम के बाहर अज्ञात लोगों ने रात करीब ढाई बजे दो कार और एक स्कूटर को आग के हवाले कर दिया. केरल के वित्त मंत्री टीएम थॉमस इसाक ने इस हमले के लिए संघ परिवार को जिम्मेदार ठहराया. उन्होंने कहा वो लोग कानून को तोड़ने की कोशिश कर रहे हैं.

इस बीच केरल के मुख्यमंत्री पिनराई विजयन ने दक्षिणी राज्यों के देवस्वओम मंत्रियों की 31 अक्टूबर को एक बैठक बुलाई है. मुख्यमंत्री कार्यालय के सूत्रों ने बताया कि 17 नवंबर से शुरू हो रहे ‘मंडलम मकरविल्लाकू” सत्र के लिए सुविधाओं के इंतजाम और भीड़ प्रबंधन पर चर्चा के लिए यह बैठक बुलायी गई है. सरकार सबरीमला में ‘तिरुपति मॉडल डिजिटल लाइन प्रणाली’ (जहां श्रद्धालु दर्शन के लिए ऑनलाइन टिकट खरीदते हैं) लागू करने पर विचार कर रही है. इस पर भी बैठक में चर्चा होगी.

बैठक में उच्चतम न्यायालय के रजस्वला आयुवर्ग (10-50 वर्ष) की महिलाओं के प्रवेश से रोक हटाने के आदेश पर चर्चा नहीं होगी. जब यह मंदिर अक्टूबर में 17-22 तारीख के दौरान पूजा के लिए खुला था तब उसमें महिलाओं को प्रवेश की अनुमति के खिलाफ सबरीमला, निलक्कल और पांबा समेत केरल के कई स्थानों पर जबर्दस्त प्रदर्शन हुआ था. इस मंदिर के भगवान अयप्पा ‘नैष्ठिक ब्रह्मचारी’ (बाल ब्रह्मचारी) हैं. ‘निषिद्ध’ उम्रवर्ग की कम से कम 12 महिलाओं ने पहाड़ी पर चढ़ने की कोशिश की लेकिन व्यापक प्रदर्शन के चलते उन्हें पीछे हटना पड़ा. हालांकि राज्य सरकार ने स्पष्ट किया है कि (उच्चतम न्यायालय के) फैसले को लागू करना उसकी संवैधानिक जिम्मेदारी है.