चंडीगढ़| पंजाब की गुरदासपुर लोकसभा सीट पर होने वाले उपचुनाव के लिए बाबा रामदेव के करीबी स्वर्ण सिंह सलारिया को बीजेपी ने टिकट दे दिया है. कांग्रेस ने गुरुवार को घोषणा की थी कि प्रदेश अध्यक्ष सुनील जाखड़ यह उपचुनाव लड़ेंगे जबकि आम आदमी पार्टी पहले ही मेजर जनरल (सेवानिवृत) सुरेश खजूरिया को अपना उम्मीदवार बना चुकी है.Also Read - COVID Vaccination drive for Chhath Puja devotees: छठ व्रतियों के लिए खास टीकाकरण अभियान की शुरुआत

गुरदासपुर से चार बार सांसद रहे फिल्म अभिनेता विनोद खन्ना का निधन होने के बाद यह लोकसभा सीट खाली हुई थी. गुरुदासपुर की लोकसभा सीट पर 11 अक्टूबर को मतदान होना है और 15 अक्टूबर को चुनाव के नतीजे आएंगे. 

Baba Ramdev accident false news goes viral | सोशल मीडिया पर वायरल हुई बाबा रामदेव की मौत की झूठी खबर

Baba Ramdev accident false news goes viral | सोशल मीडिया पर वायरल हुई बाबा रामदेव की मौत की झूठी खबर

Also Read - Video: लालू यादव के बयान पर बोले नीतीश कुमार- 'वह मुझे गोली मरवा सकते हैं और...'

खन्ना की विधवा कविता खन्ना भी पार्टी टिकट के लिए होड़ में आगे बतायी जा रही थीं. वह गुरदासपुर संसदीय क्षेत्र में जनसभाओं में हिस्सा भी ले रही थीं लेकिन सलारिया को बीजेपी की पंजाब और गुरदासपुर के लोकल बीजेपी के नेताओ के समर्थन से टिकट मिला. योग गुरु बाबा राम देव ने भी बीजेपी के नेतृत्व से सलारिया की टिकट के लिए पैरवी की थी. Also Read - MP में कांग्रेस को बड़ा झटका, विधायक सचिन बिरला ने लोकसभा उपचुनाव के बीच में बीजेपी ज्‍वाइन की

सलारिया देश भर में एक बड़ी ट्रिग सिक्यरिटी एजेन्सी और एक रेस्टरोरेंट चेन भी चलाते हैं. बताया जा रहा है कि सलारिया का बाबा रामदेव के साथ पुराने सम्बंध हैं वो पतंजलि के फाउंडर सदस्य भी रहे हैं. बाबा रामदेव ने 2014 के लोकसभा के चुनाव में सलारिया के को गुरदासपुर सीट टिकट मिले इसके लिए पैरवी की थी, लेकिन तब पार्टी ने फिल्म अभिनेता और अपने तीन बार के सांसद विनोद खन्ना पर ही भरोसा जताया था. 

non bailable warrant issued against baba ramdev | रामदेव के खिलाफ गैर जमानती वारंट, ‘सिर कलम’ करने वाली टिप्पणी पड़ी महंगी

non bailable warrant issued against baba ramdev | रामदेव के खिलाफ गैर जमानती वारंट, ‘सिर कलम’ करने वाली टिप्पणी पड़ी महंगी

सलरिया को टिकट देने के पीछे एक बड़ा कारण यह भी माना जाता रहा कि कविता को गुरदासपुर के लोग बाहरी मानते है उनका सीधा पार्टी के साथ कोई जुड़ाव नहीं रहा हैं.

बता दें कि 2014 चुनाव के बाद भी ये जानकारी सामने आई थी कि कई सीटों पर बीजेपी उम्मीदवारों के चयन को लेकर बाबा रामदेव की राय को तरजीह दी गई थी. पश्चिम बंगाल की आसनसोल सीट भी इसमें से एक थी. यहां से बीजेपी के बाबुल सुप्रियो चुनाव जीते थे. सुप्रियो की रामदेव से मुलाकात एक विमान में हुई थी और यहीं इस गायक के लोकसभा टिकट की नींव डल गई थी.