नई दिल्लीः बलात्कार के दोषियों को सजा सुनाये जाने के छह महीने के भीतर मृत्युदंड दिए जाने की मांग को लेकर भूख हड़ताल कर रही दिल्ली महिला आयोग (डीसीडब्ल्यू) की अध्यक्ष स्वाति मालीवाल रविवार सुबह बेहोश हो गईं जिसके बाद उन्हें अस्पताल में भर्ती कराया गया. मालीवाल पिछले 13 दिनों से राज घाट के निकट समता स्थल पर बैठकर भूख हड़ताल कर रही हैं.

उनकी शनिवार रात तबियत खराब हो गई थी और चिकित्सकों ने उन्हें अस्पताल जाने की सलाह दी थी लेकिन उन्होंने ऐसा करने से इनकार कर दिया था. मालीवाल के बेहोश हो जाने के बाद उन्हें रविवार सुबह एलएनजेपी अस्पताल ले जाया गया. महिला आयोग ने बताया कि स्वाति शारीरिक रूप से काफी कमजोर हो गईं है इसलिए वो किसी से बात भी नहीं कर पा रही हैं.


डॉक्टरों ने जानकारी देते हुए बताया कि उनके खून में यूरिक एसिड खतरनाक स्तर पर पहुंच गया है और उनके गुर्दे क्षतिग्रस्त हो सकते हैं. डॉक्टरों ने उन्हें अस्पताल में दाखिल करने की सलाह दी जिसके बाद पुलिस ने ऐंबुलेंस बुला ली लेकिन उन्होंने अस्पताल जाने से इनकार कर दिया. भूख हड़ताल के कारण स्वाति के वजन में भी काफी गिरावट दर्ज की गई है. लोगों ने बताय कि इस पूरे मुद्दे पर केंद्र सरकार की तरफ से कोई भी स्वाति मालीवाल की जानकारी लेने नहीं आया इस बात से भी वो काफी दुखी थीं.

आपको बता दें कि यह पहला ऐसा मौका नहीं जब स्वाति महिला के हक के लिए अनशन पर बैठी हैं. पिछले साल भी स्वाति कई मुद्दों को लेकर अनशन कर चुकी हैं. इस बार उन्होंने अपनी हड़ताल में मांग की है कि बलात्कार के आरोपियों को छह महीने के अंदर फांसी की सजा दी जाए.