नई दिल्लीः देश में कोरोना वायरस के मामलों में लगातार वृद्धि हो रही है. महामारी को कंट्रोल करने के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने देश में 3 मई तक के लिए लॉकडाउन की घोषणा की है. लेकिन, इसके बाद भी देश में 27 हजार से अधिक कोरोना वायरस के मामले सामने आ चुके हैं. वहीं 800 से ज्यादा लोगों की मौत हो चुकी है. इस बीच ट्विटर पर ‘तबलीगी जमात पर गर्व है’ काफी ट्रेंड कर रहा है. यह वही तबलीगी जमात है, जिसको लेकर लोगों में गुस्सा था. दिल्ली के निजामुद्दीन इलाके स्थित मरकज में 4 हजार से अधिक जमातियों के मिलने के बाद इनमें कोरोना की पुष्टि हुई थी. जिसके बाद लोग काफी गुस्से में थे. Also Read - Aligarh Muslim University में कोरोना के नए वेरिएंट की आशंका! 26 प्रोफेसरों की मात्र 20 दिन में मौत

इस बीच अब ट्विटर पर #तबलीगी_जमात_पर_गर्व_है’ टॉप ट्रेंड है. सवाल उठ रहे हैं कि आखिर तबलीगी जमात ने ऐसा क्या कर दिया कि ट्विटर पर यह टॉप ट्रेंड में शामिल हो गया है. Also Read - Sourav Ganguly का ऐलान, Covid-19 से खेल प्रभावित होने के बावजूद घरेलू क्रिकेटर्स को दी जाएगी पूरी सैलरी

रिपोर्ट्स के अनुसार कोरोना से अब तक 300 से ज्यादा जमाती ठीक हो चुके हैं और अब ये जमाती अन्य लोगों की मदद करने के लिए प्लाज्मा डोनेट कर रहे हैं. हालांकि, इस बात की अभी तक पुष्टि नहीं हुई है. लेकिन, सोशल मीडिया पर तबलीगी जमात ट्रेंड जरूर कर रहा है और लोग तबीलीग जमात पर गर्व है लिखकर ट्वीट पर ट्वीट किए जा रहे हैं. Also Read - Covid-19 Vaccination In Maharashtra: महाराष्ट्र में अब तक 1.8 करोड़ से अधिक लोगों का टीकाकरण

इस पर दिल्ली सरकार की ओर से कोई टिप्पणी नहीं आई है. हालांकि दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने तबलीगी जमात को लेकर लोगों में गुस्से को देखते हुए कहा था कि, ‘यदि आपके मन में किसी दूसरे धर्म के व्यक्ति के प्रति कोई दुर्भावना है तो याद रखें कि किसी दिन उसका प्लाज्मा आपकी जान बचा सकता है. मुसलमान का प्लाज्मा हिन्दू की जान बचाएगा और हिन्दू का प्लाज्मा मुसलमान की जान बचाएगा. हम सबका खून एक जैसा है.’

रिपोर्ट्स के मुताबिक, कोरोना से ठीक होने के बाद करीब 250 से अधिक जमातियों ने प्लाज्मा डोनेट करने की इच्छा जताई है. जिनमें से नरेला सेंटर में 190, सुल्तानपुरी में 51 और मंगोलपुरी सेंटर में 42 तबलीगी जमाती अपना प्लाज्मा डोनेट करेंगे.

बता दें दिल्ली सरकार का स्वास्थ्य विभाग प्लाज्मा थेरेपी के जरिए कोरोना के मरीजों का इलाज कर रहा है, जिसके चलते मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने कोरोना से ठीक हो चुके लोगों से अपना प्लाज्मा डोनेट करने की अपील भी की थी.