सलेम . तमिलनाडु के मुख्यमंत्री के. पलानीस्वामी ने रविवार को दावा किया कि सत्तारूढ़ अन्नाद्रमुक के खिलाफ द्रमुक भ्रष्टाचार के आरोप केवल इन आशंकाओं के कारण लगा रही है कि उसके नेताओं के खिलाफ लंबित भ्रष्टाचार के मामलों में उनके खिलाफ फैसला आ सकता है. द्रमुक प्रमुख एम के स्टालिन पर प्रहार करते हुए पलानीस्वामी ने कहा कि जब द्रमुक के संरक्षक दिवंगत एम. करूणानिधि जिन्दा थे, तब वह अन्नाद्रमुक का कुछ नहीं बिगाड़ पाए.

बता दें कि स्टालिन भ्रष्टाचार के मुद्दे पर सरकार की तीखी आलोचना करते रहे हैं. पलानीस्वामी ने आरोप लगाए कि द्रमुक भ्रष्टाचार का पर्याय है और 1970 के दशक में एम. करूणानिधि की सरकार के खिलाफ चेन्नई के पेयजल की जरूरत को पूरा करने के लिए वीरानम परियोजना को लेकर सरकारिया आयोग की रिपोर्ट का जिक्र किया.

चेन्नई नें निर्बाध पानी
दिवंगत जे. जयललिता द्वारा नये वीरानम पेयजल योजना की शुरुआत किए जाने के बाद ही चेन्नई को ‘‘निर्बाध’’ पानी की आपूर्ति शुरू हुई. वीरापनदी में एक समारोह को संबोधित करते हुए मुख्यमंत्री ने कहा कि एम जी रामचन्द्रन (एमजीआर) द्वारा अन्नाद्रमुक का गठन किए जाने के बाद से ही द्रमुक पार्टी के अस्तित्व को लेकर बार-बार गलत आकलन करता है.