हैदराबाद, 13 मार्च | तेलंगाना में विपक्षी तेलुगू देशम पार्टी (तेदेपा) ने शुक्रवार को अपने विधायकों को पूरे बजट सत्र के लिए सदन से निलंबित कर दिए जाने की शिकायत राज्यपाल से की। तेदेपा विधायकों का एक प्रतिनिधिमंडल राजभवन में राज्यपाल ई.एस.एल. नरसिम्हन से मिला और एक ज्ञापन सौंपा और मामले में हस्तक्षेप की मांग की।
नेताओं ने यह आरोप लगाया कि तेलंगाना राष्ट्र समिति (टीआरएस) सरकार ने गैर लोकतांत्रिक रवैया अपनाते हुए पूरे सत्र के दौरान उन्हें निलंबित कर दिया है। उन्होंने राज्यपाल से सरकार के खिलाफ कदम उठाने की मांग की। यह भी पढ़ें–तेलंगाना विधानसभा से तेदेपा के 10 विधायक निलंबित

तेदेपा के नेता ई.दयाशंकर राव के नेतृत्व वाले प्रतिनिधिमंडल ने शिकायत की कि अध्यक्ष अपने कर्तव्यों का पालन नहीं कर रहे हैं और वह सिर्फ सरकार के निर्देशों का पालन कर रहे हैं।  तेदेपा नेता ने यह आरोप भी लगाया कि अध्यक्ष ने सदन में टीआरएस के खिलाफ जाने वाले इसके तीन विधायकों को निलंबित नहीं किया। उन्होंने कैबिनेट मंत्री टी. श्रीनिवास यादव सहित तीन विधायकों के निलंबन की मांग की।

तेदेपा के 11 विधायकों को सोमवार को विधानसभा में हुए हंगामे के बीच पूरे बजट सत्र के दौरान निलंबित कर दिया गया। तेदेपा सदस्य मंत्रिमंडल में अनुसूचित जाति और महिलाओं के प्रतिनिधित्व की मांग करते हुए प्रदर्शन कर रहे थे, जबकि सरकार का कहना है कि वे सात मार्च को राज्यपाल के अभिभाषण के दौरान राष्ट्रगान के हुए अपमान पर माफी मांग रहे थे।

तेदेपा और कांग्रेस के कुछ विधायकों ने कथित रूप से राज्यपाल के खिलाफ नारेबाजी और शोरशराबा कर राष्ट्रगान का अपमान किया था।  कांग्रेस के कुछ सदस्यों ने सोमवार को माफी मांगी थी।