नई दिल्ली: 12 मई को शादी के बंधन में बंधने जा रहे बिहार के पूर्व स्वास्थ मंत्री तेज प्रताप यादव ने मंगलवार को बिहार के उपमुख्यमंत्री सुशील मोदी से मिलकर उन्हें अपनी शादी का आमंत्रण दिया. गौरतलब है कि सुशील मोदी के बेटे की शादी के दौरान ही तेज प्रताप ने उन्हें घर में घुसकर मारने तक की धमकी दी थी.

मंगलवार को तेज प्रताप ने अपने ट्विटर हैंडल पर दो तस्वीरें शेयर करते हुए इस बात की जानकारी दी कि उन्होंने सुशील मोदी से मिलकर शादी का न्योता दिया है. तेज प्रताप ने अपने ट्वीट में लिखा है, ‘बिहार के मा. उपमुख्यमंत्री सुशील मोदी जी को अपने विवाह का निमंत्रण दिया. लाख राजनीतिक और मनूवादी विद्वेष हम पर थोपी जाए, हम बहुजन समाज के लोग कृष्ण के वंशज हैं. हमारा दिल बहुत बड़ा है इसमें सब के लिए जगह है.

बता दें कि 18 अप्रैल को तेजप्रताप यादव की ऐश्वर्या राय से सगाई हुई थी. ऐश्वर्या राय बिहार के पूर्व मंत्री और विधायक चंद्रिका राय की बेटी हैं. चंद्रिका राय बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री दरोगा राय के बेटे और परसा विधानसभा क्षेत्र के विधायक हैं. ऐश्वर्या चंद्रिका राय की सबसे बड़ी पुत्री हैं. उनकी स्कूली शिक्षा पटना में हुई है और उच्च शिक्षा दिल्ली में हुई है. तेज प्रताप की होने वाली दुल्हनिया को घर में लोग झिप्सी के नाम से पुकारते हैं. क्योंकि जिस दिन ऐश्वर्या पैदा हुई उस दिन बारिश हो रही थी.

अपने बयानों के लिए सुर्खियों में रहते हैं तेज प्रताप
तेजप्रताप आए दिन अपने अजीबोगरीब बयान के चलते सुर्खियों में बने रहते हैं. पिछले साल बिहार के उपमुख्यमंत्री सुशील मोदी के बेटे उत्कर्ष मोदी की शादी के दौरान भी तेजप्रताप ने तोड़फोड़ करने की धमकी दी थी. बिहार के औरंगाबाद में तेजप्रताप ने एक सभा को संबोधित करते हुए कहा था कि सुशील मोदी ने घर पर फोन कर बेटे उत्कर्ष मोदी की शादी का निमंत्रण दिया है. साथ ही उन्होंने कहा था कि मोदी शादी में हम लोगों को बुलाकर बेइज्जत करना चाहते हैं. तेजप्रताप ने आगे कहा था कि, हम मोदी के बेटे उत्कर्ष की शादी में जाएंगे, तो वहीं जनता के बीच में पोल खोल देंगे. लड़ाई चल रहा है. हम नहीं मानेंगे. हम वहां भी राजनीति करेंगे.

सुशील मोदी पर भूत छोड़ने का लगाया था आरोप
राष्‍ट्रीय जनता दल (राजद) सुप्रीमो लालू प्रसाद यादव के बेटे और बिहार के पूर्व मंत्री तेज प्रताप यादव ने महागठबंधन की सरकार गिरने के तकरीबन सात महीने बाद सरकारी बंगला खाली कर दिया था. तेज प्रताप ने तीन एकड़ में फैले बंगले को खाली करने के पीछे अजीबोगरीब तर्क दिए थे. उन्होंने कहा था कि मुख्यमंत्री नीतीश कुमार और सुशील मोदी ने हमारे सरकारी बंगले में भूतों को छोड़ दिया है, जिसकी वजह से मैंने सरकारी बंगला खाली कर दिया.