नई दिल्लीः भारत की पहली कॉर्पोरेट ट्रेन तेजस एक्सप्रेस शनिवार को काफी लेट चली. तेजस एक्सप्रेस लखनऊ से लगभग 2 घंटे की देरी से चली जिसकी वजह से यात्रियों को स्टेशन में काफी देर तक इंतजार करना पड़ा. जानकारी के अनुसार इस ट्रेन में लखनऊ से दिल्ली जाने के लिए 450 से भी ज्यादा यात्री सवार थे. ट्रेन के लेट होने पर IRCTC यात्रियों को मुआवजा देगा.

रेलमंत्री पीयूष गोयल ने भी ट्विट करके इस बात की जानकारी दी. उन्होंने लिखा कि अपने सही समय से लेट होने के कारण यात्रयों को आईआरसीटीसी की तरफ से मुआवजा दिया जाएगा. ट्विट में इस बात की भी जानकारी दी गई कि एक घंटे लेट होने पर यात्रियों को 100 रुपये मुआवजे के रूप में दिए जाएंगे जबकि 2 से ज्यादा लेट होने पर यात्रियों को 250 रुपये दिए जाएंगे.

पहले सीएम को मिली धमकी अब पीएम मोदी के हेलीकॉप्टर की तस्वीर लेते पकड़े गए दो लोग, ATS ने उठाया यह कदम

दरअसल इस ट्रेन का लखनऊ से चलने का सही समय 6 बजकर 10 मिनट है और कानपुर पहुंचने का सही समय 7 बजकर 20 मिनट है लेकिनय शनिवार को तेजस कानपुर 10 बजकर 3 मिनट पर पहुंची. ढाई घंटे से ज्यादा लेट होने के कारण यात्रियों को काफी दिक्कतों का सामना करना पड़ा. कुछ यात्रियों ने बताया कि वे सुबह 6 बजे से स्टेशन पर ट्रेन का इंतजार कर रहे थे और बार बार ट्रेन के स्टेटस की जानकारी के लिए इंक्वायरी के लिए जाना पड़ा.

तेजस के लेट होने के कारण कुछ यात्रियों को स्टेशन पर ही वेटिंग, डोरमेट्री रूम भी बुक करवाने पड़े. जानकारी के अनुसार गुरुवार कृषक एक्सप्रेस के दो डिब्बे लखनऊ पटरी से उतर गए थे जिसकी वजह से सुबह की कई ट्रेनों का रूट बदलना पड़ा. मुआवजे के लिए यात्रियों को एक लिंक भेजा जाएगा जहां क्लिक करके यात्री मुआवजे के लिए क्लेम कर सकेंगे. आपको बता दें कि देश में ऐसा पहली बार होगा कि किसी ट्रेन के लेट होने के कारण यात्रियों को मुआवजा दिया जाएगा.