नई दिल्ली: बिहार के नेता प्रतिपक्ष लालू यादव के बेटे तेजस्वी यादव ने रविवार को लखनऊ में बीएसपी प्रमुख मायावती से मुलाकात की. मुलाकात के दौरान तेजस्वी ने मायावती के पैर छूकर आशीर्वाद लिया. उन्होंने मीडिया से कहा कि हम सबसे छोटे हैं इसलिए आशीर्वाद लेने आए हैं. तेजस्वी ने कहा कि लालू जी ने यही कल्पना की थी कि उत्तर प्रदेश में भी महागठबंधन हो, मायावती और अखिलेश यादव मिलकर चुनाव लड़े. तेजस्वी ने कहा कि जिस तरह से देश मे अघोषित इमरजेंसी लगाई गई है, संविधान से छेड़छाड़ की जा रही है आरक्षण को खत्म करने का प्रयास किया जा रहा है. संवैधानिक संस्थाओं पर तानाशाही की जा रही है.जो काम मोहन भागवत ने कहा था वही मोदी जी कर रहे हैं.

यादव ने कहा कि हमारी मोदी जी से कोई लड़ाई नहीं है बस विचारों और सिद्धांतों की लड़ाई है जिसको हैं सभी साथ मिलकर लड़ेंगे. उन्होंने कहा कि लालू जी आज इसलिए जेल में हैं, क्योंकि उन्होंने मोदी जी के आगे घुटने नही टेके.हमारी जब मूछ भी नही आई थी तब हमपर केस करा दिया गया था. तेजस्वी ने कहा, 14-15 साल की उम्र में हम पर केस कर दिया गया था जिसमे हमारे चाचा नीतीश का भी हाथ था. मोदी राज में अर्थव्यवस्था चौपट है. देश में इतिहास में पहली बार आरबीआई के गवर्नर ने इस्तीफा दिया है.

दोनों नेताओं के बीच लगभग एक घंटे तक मुलाकात का दौर चला. मुलाकात के अगले दिन उन्होंने अपने ट्विटर पर फोटो अपलोड कर इस मुलाकात की जानकारी दी, तेजस्वी ने लिखा, जिन्दगी में सबकुछ हासिल करने वाली नेता को एडवांस में जन्मदिन की शुभकामनाएं. अगर हम बड़ों के सानिध्य में आगे बढ़ते हैं तो वे हमें बहुत कुछ सीखाते हैं. मैं उनकी लंबी उम्र की दुआ करता हूं. मायावती जी हैप्पी बर्थ-डे.