नई दिल्ली. बिहार के भागलपुर में धार्मिक जुलूस के दौरान गाना बजाने को लेकर दो समुदायों में झड़प हो गई. इसमें दो पुलिसकर्मी सहित तीन लोग जख्मी हुए हैं. राजद नेता और पूर्व उपमुख्यमंत्री ने इसे अररिया लोकसभा और जहानाबाद विधानसभा से जोड़ते हुए ट्वीट किया है. उन्होंने ट्वीट किया, ‘हार से घबराये व बौखलाहट में कल शाम भागलपुर में दंगा करवाया गया. अररिया, दरभंगा के बाद अब भागलपुर. नीतीश कुमार इतने असहाय,बेबस और लाचार क्यों है? गृह विभाग नीतीश कुमार के पास है वो माहौल बिगाड़ने वाले ऐसे तत्वों और शक्तियों को प्रायोजित और प्रोत्साहित क्यों कर रहे है?’ Also Read - बिहार विधानसभा चुनाव में मिली हार के बाद अब इस तैयारी में विपक्षी महागठबंधन...

बता दें कि अररिया लोकसभा उपचुनाव में राजद प्रत्याशी को जीत मिली थी. बीजेपी-जदयू प्रत्याशी के लिए बिहार बीजेपी अध्यक्ष ने काफी प्रयाश किया था. वहीं, चुनाव के बाद केंद्रीयमंत्री गिरिराज सिंह ने विवादित बयान देते हुए कहा था कि चुनाव के बाद अररिया आईएसआई का गड़ बन जाएगा. इसके बाद से ही राजद और दूसरी विपक्षी पार्टियां बीजेपी पर निशाना साध रही हैं.

भागलपुर के वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक मनोज कुमार ने बताया, घटना नाथनगर थाने की है. विक्रम संवत की पूर्व संध्या पर यहां केंद्रीयमंत्री अश्विनी चौबे के बेटे अरिजीत चौबे की अगुवाई में बीजेपी, आरएसएस और बजरंग दल के कार्यकर्ताओं ने जुलूस निकासा था. इसकी शुरुआत बुधनाथ मंदिर से हुई और पूरे शहर से होते हुए यह नाथनगर पहुंचा.

एसएसपी ने बताया कि कुछ स्थानीय लोगों ने गाने बजाने पर आपत्ति जताई जिसकी वजह से वहां विवाद हो गया. लेकिन पुलिस के दखल के बाद जुलूस आगे बढ़ा. हालांकि, इसी दौरान दो अलग-अलग समुदायों के स्थानीय लोगों के बीच झगड़ा हो गया, गोलियां चली, पथराव हुए और दुकानों एवं वाहनों को आग के हवाले कर दिया गया. सूचना पर पहुंची पुलिस टीम के दो पुलिसकर्मियों के हाथ में गोलियां लगी. उन्हें तत्काल इलाज के लिए नजदीक के अस्पताल ले जाया गया, जहां उनकी हालत स्थिर बनी हुई है.