हैदराबाद: तेलंगाना स्टेट रोड ट्रांसपोर्ट कॉरपोरेशन (टीएसआरटीसी) के एक और कर्मचारी ने बुधवार को आत्महत्या कर ली. बुधवार को अनिश्चितकालीन हड़ताल का 40वां दिन रहा. दो महीने से वेतन नहीं मिलने व अपनी नौकरी जाने के डर से परेशान होकर टीएसआरटीसी के एक चालक ने महबूबाबाद कस्बे में आत्महत्या कर ली.

चालक की पहचान ए.नरेश के रूप में हुई है. उसने अपने घर में कीटनाशक खा लिया. उसे अस्पताल ले जाया गया, जहां उसे मृत घोषित कर दिया गया. चालक की आत्महत्या की खबर फैलने के बाद बड़ी संख्या में टीएसआरटीसी के कार्यकर्ता अस्पताल पहुंचे और उसके शव को बस डिपो ले गए और प्रदर्शन शुरू कर दिया. पुलिस के प्रदर्शनकारियों के डिपो में प्रवेश से रोकने की वजह से तनाव बढ़ गया.

48000 कर्मचारियों के नौकरी गंवाने के बाद आरटीसी मामले ने पकड़ा जोर, विपक्ष ने दिया साथ

नरेश, टीएसआरटीसी का पांचवा कर्मचारी है, जिसने आत्महत्या की है. करीब 50,000 कर्मचारी विभिन्न मांगों को लेकर हड़ताल पर हैं, जो पांच अक्टूबर को शुरू हुई है. टीएसआरटीसी यूनियनों का दावा है कि बीते 40 दिनों से हृदयाघात की वजह से 10 से ज्यादा कर्मचारियों की जान चली गई है.

सरकार द्वारा उनकी मांगों को अस्वीकार किए जाने और काम पर लौटने के लिए दो बार समय सीमा तय करने के बाद भी कर्मचारी अपनी हड़ताल जारी रखे हुए हैं. सिर्फ 1,300 कर्मचारी फिर से ड्यूटी पर लौटें है.

(इनपुट-आईएएनएस)