नई दिल्ली: ऑल इंडिया मज्लिस ए इतेहदुल मुसलिमीन (एआईएमआईएम) प्रमुख असदुद्दीन ओवैसी ने कांग्रेस पार्टी और राहुल गांधी पर तीखा हमला बोला है. तेलंगाना में चुनाव प्रचार के दौरान कांग्रेस के पॉकेटमारों की पार्टी और राहुल गांधी को जनेऊधारी हिन्दू बता हमला किया. ओवैसी ने आगे कहा कि तेलुगु देशम पार्टी और कांग्रेस दोनों पॉकेटमारों की जमात हैं. ओवैसी ने कहा जब यहां के युवाओं को जेलों में डाला गया. चंद्रबाबू नायडू की वजह से जिंदगियां बर्बाद हुईं. क्या कांग्रेस के लोग आए. क्या यह जनेऊधारी हिंदू आया? जो अपने आप को जनेऊधारी हिंदू कहता है.

वोटिंग से एक हफ्ते पहले कांग्रेस ने मोहम्मद अजहरुद्दीन को इसलिए बनाया तेलंगाना का ‘कैप्टन’

ओवैसी यहीं नहीं रुके. उन्होंने कहा कि राहुल गांधी तुम क्या जानते हो, हमारी तकलीफ क्या है. तुम तो महलों में जिंदगी गुजारे. क्या तुमने अपने जिस्म पर कभी लाठियां खाईं. क्या तुमको तुम्हारे नाम से मजहब के नाम पर जलील किया गया. क्या तुमसे नाइंसाफी हुई. अरे! हमने मुकाबला किया.

गाना लिख नए राज्य का इतिहास रचने वाला CM, 5 भाषा में देता है भाषण

इससे पहले ओवैसी ने कांग्रेस नेता गुलाम नबी आजाद पर पर्सनल अटैक किया था. ओवैसी ने कहा था, आपमें (गुलाम नबी आजाद) और मेरे में फर्क यह है कि मैं बोलने में और अमल करने में कोशिश करता हूं कि सही मामलों में नबी (अल्लाह) का गुलाम बनूं. आपकी समस्या यह है कि आपका नाम तो गुलाम नबी है, मगर जिंदगीभर आपने सिर्फ कांग्रेस की गुलामी की है. गुलाम नबी आजाद ने कहा था कि हमें इस बात का अफसोस है कि हमने उनके साथ (AIMIM) के साथ एक समय गठबंधन किया था.

तेलंगाना चुनावः मुस्लिमों को आरक्षण पर भड़के सीएम केसीआर, कहा- ‘तुम्हें हड़बड़ी क्यों है, तेरे बाप को बोलूंगा’

गौरतलब है कि तेलंगना में 7 दिसंबर को वोटिंग होनी है. मुस्लिम यहां कई सीटों पर जीत हार तय करते हैं. साल 2011 की जनगणना के मुताबिक, राज्य में 12.7 फीसदी मुस्लिम वोटर हैं. आदिलाबाद, महबूबनगर, निजामाबाद, नालगोंडा, रांगा रेड्डी, हैदराबाद, मेडक और करीमनगर के जिले ऐसे हैं, जहां मुस्लिम वोट बैंक हार-जीत का बड़े फैक्टर होंगे.

5 राज्यों के उम्मीदवारों में सबसे रईस, जहां तक नजर जाए वहां तक फैली है संपत्ति

इसी को ध्यान में रखते हुए कांग्रेस ने मोहम्मद अजहरुद्दीन को बड़ी जिम्मेदारी दी है जिससे मुस्लिम वोटर्स को लुभाया जा सके. वहीं मुस्लिमों को अपने पक्ष में करने के लिए केसीआर ने AIMIM के अध्यक्ष असदुद्दीन ओवैसी का सहारा लिया है. असदुद्दीन ओवैसी उन जगहों पर भी जनसभा कर रहे हैं, जहां उनका उम्मीदवार मैदान में ही नहीं है. ओवैसी टीआरएस के पक्ष में वोट मांग रहे हैं. ऐसे में कांग्रेस मुस्लिम वोटर्स को अपने पाले में करने के लिए नए-नए हथकंडे अपना रही है.