नई दिल्ली: तेलंगाना में विधानसभा का चुनाव लड़ रही 32 साल की ट्रांसजेंडर एक्टविस्ट कथित तौर पर लापता हैं. पुलिस ने बताया कि इस मामले में गुमशुगदी की रिपोर्ट दर्ज कर ली गई है. चंद्रमुखी एम सीपीआईएम लीड बहुजन लेफ्टफ्रंट के टिकट पर घोषमहल सीट से चुनाव लड़ रही हैं. बताया जा रहा है कि वह अपने घर से लापता हैं. वह कांग्रेस के सीनियर नेता मुकेश गोद और बीजेपी के नेता टी-राजा सिंह के खिलाफ चुनाव लड़ रही हैं.

तेलंगाना चुनाव: नॉमिनेशन करने के बाद ‘गायब’ हो गया था कैंडिडेट, पुलिस ने ढूंढकर कोर्ट में पेश किया

ट्रांसजेंडर समुदाय के उनके दोस्त जो चुनाव प्रचार में लगे हुए हैं, पूरे दिन उन्हें खोजते रहे लेकिन कहीं चंद्रमुखी का पता नहीं चला. परिवार ने किडनैपिंग की चिंता जताई है. बंजारा हिल्स पुलिस स्टेशन में चंद्रमुखी के लापता होने की रिपोर्ट दर्ज करा दी गई है.

लंगाना चुनाव: सोनिया गांधी की रैली के बाद बदल रहे हैं समीकरण, टीआरएस से कड़ा मुकाबला

बंजारा हिल्स के इंस्पेक्टर आर गोविंद रेड्डी ने बताया कि गुमशुदगी की रिपोर्ट दर्ज कर ली गई है. बता दें कि तेलंगाना विधानसभा के लिए 22 नवंबर को गजवेल विधानसभा क्षेत्र से पर्चा भरने के बाद से कथित तौर पर लापता एक उम्मीदवार को मंगलवार को हैदराबाद हाईकोर्ट के समक्ष पेश किया गया. अदालत ने एक दिन पहले ही पुलिस को उम्मीदवार को पेश करने का निर्देश दिया था. न्यायमूर्ति राघवेंद्र सिंह चौहान और न्यायमूर्ति एम सत्यनारायण मूर्ति की खंडपीठ ने सोमवार को पुलिस को निर्देश दिया था कि वह समाजवादी फॉरवर्ड ब्लॉक पार्टी के टिकट पर चुनाव लड़ रहे के दिनेश चक्रवर्ती को मंगलवार को सवा दो बजे से पहले अदालत के समक्ष पेश करे.

तेलंगाना विधानसभा चुनाव में किस्मत आजमाएगी सपा, अखिलेश ने भरी हामी

इसी के अनुरूप, पुलिस ने दिनेश को पेश किया. उन्होंने अदालत को बताया कि वह न तो गायब हुए थे और न ही किसी ने उनका अपहरण किया था. उन्होंने कहा कि वह सुरक्षित थे. उम्मीदवार ने अदालत को बताया कि उन्होंने स्वैच्छिक रूप से अपना नामांकन पत्र वापस ले लिया था और उनकी पार्टी को इस बारे में पता है. उन्होंने हालांकि कहा कि ऐसा लगता है कि इस मामले में कुछ संवादहीनता थी. उम्मीदवार का पक्ष सुनने के बाद अदालत ने मामला बंद कर दिया.

पढ़ें: तेलंगाना विधानसभा चुनाव 2018