हैदराबाद: चुनावी राज्य तेलंगाना में सत्तारूढ़ टीआरएस और कांग्रेस नीत विपक्षी गठबंधन ने दावा किया है कि उसके बीच सीधी लड़ाई होगी और भाजपा समूचे परिदृश्य में कहीं नहीं है. दूसरी तरफ, भगवा पार्टी का कहना है कि तेलंगाना में खंडित जनादेश होगा और संकेत है कि वह किंगमेकर के तौर पर उभरेगी. कांग्रेस के तेलंगाना मामलों के प्रभारी आर सी खुंटिया ने कहा कि ‘भाजपा के पास (भंग विधानसभा में) पांच सीटें थी. इस बार यह घटकर एक या दो रह जाएंगी.’Also Read - Parliament Winter Session: विपक्षी नेताओं ने की मुलाकात, वेंकैया नायडू की दो टूक-सांसदों को माफी मांगनी ही होगी

Also Read - कब बहाल होगा जम्मू कश्मीर का राज्य का दर्जा? भाजपा बोली- पहले चुन कर की जा रही हत्याएं बंद हों

चुनावी सर्वे: मध्यप्रदेश, राजस्थान और तेलंगाना में कांग्रेस को बहुमत का अनुमान, छत्तीसगढ़ में कड़ी टक्कर Also Read - Punjab Polls: पूर्व सीएम अमरिंदर सिंह ने पंजाब में नई सरकार बनाने का बताया फॉर्मूला, BJP से गठबंधन पर कही यह बात

तेलंगाना राष्ट्र समिति के सुप्रीमो के चंद्रशेखर राव के बेटे और कार्यवाहक सरकार में अहम मंत्री के टी रामा राव की भी यही राय है. उन्होंने कहा कि ‘कांग्रेस हमारी मुख्य प्रतिद्वंद्वी है. भाजपा का तेलंगाना में अस्तित्व नहीं है.’ रामा राव ने दावा किया कि (राज्य में 119 में से) 100 से ज्यादा सीटों पर भाजपा उम्मीदवारों की जमानत जब्त हो जाएगी और भंग विधानसभा के एक भी सदस्य फिर से सदन में नहीं आ पाएंगे.

राजस्थान: अशोक गहलोत का तंज, बोले- ‘मिशन-180’ कहने वाले अमित शाह अब चुप क्यों हैं

हालांकि, भाजपा स्थिति को दूसरे तरीके से देख रही है. भाजपा के राष्ट्रीय प्रवक्ता जीवीएल नरसिंह राव ने पीटीआई-भाषा से कहा कि ‘हमें छुपा रूस्तम माना जा रहा है. हमारी संभावनाओं से हमें कम आंका गया है. हमारा मानना है कि भाजपा तेलंगाना में हैरान करेगी और सकारात्मक नतीजे लेकर आएगी.’