हैदराबाद: तेलंगाना में विधानसभा चुनाव के लिए शुक्रवार को हुए मतदान में लगभग 70 प्रतिशत मतदान दर्ज किया गया. यहां 2.8 करोड़ मतदाता थे. छिटपुट घटनाओं को छोड़कर चुनाव शांतिपूर्ण तरीके से संपन्न हुआ. अधिकारियों ने हैदराबाद में कहा, ‘शाम पांच बजे 106 विधानसभा के लिए मतदान समाप्त हो गया, लेकिन जो कतारों में खड़े थे, उन्हें मत डालने की इजाजत दी गई है. जिलों से विस्तृत जानकारी मिलने के बाद वास्तविक मतदान प्रतिशत का पता चल पाएगा.’ यहां अपराह्न तीन बजे तक 56.17 फीसदी मतदाताओं ने अपने मताधिकार का इस्तेमाल किया. 13 संवेदनशील निर्वाचन क्षेत्रों में शाम चार बजे तक मतदान संपन्न हो गया. मतदान सुबह सात बजे शुरू हुआ और सुबह नौ बजे के बाद इसमें तेजी देखी गई. महिलाओं सहित मतदाताओं की लंबी कतारें विशेष रूप से ग्रामीण इलाकों में देखी गईं.

Exit Poll Live: महा एक्जिट पोल में मध्य प्रदेश में BJP सबसे बड़ी पार्टी, राजस्थान में कांग्रेस की सरकार, छत्तीसगढ़ में कड़ी टक्कर

मुख्य निर्वाचन अधिकारी रजत कुमार ने कहा कि छिटपुट घटनाओं को छोड़कर 31 जिलों के सभी 32,815 मतदान केंद्रों पर मतदान शांतिपूर्ण रहा है. इलेक्ट्रॉनिक वोटिंग मशीनों (ईवीएम) में तकनीकी गड़बड़ियों के चलते कुछ मतदान केंद्रों पर मतदान देर से शुरू हो पाया. नगरकुरनूल जिले में कांग्रेस उम्मीदवार वामशीचंद रेड्डी भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के कार्यकर्ताओं द्वारा किए गए पथराव में घायल हो गए. उन्हें अस्पताल में भर्ती कराया गया. कोडंगल निर्वाचन क्षेत्र में कांग्रेस नेता रेवंत रेड्डी की चार दिसंबर को आधी रात हुई गिरफ्तारी के कारण तनाव पसरा रहा. यहां चुनाव आयोग को विकाराबाद पुलिस अधीक्षक को स्थानांतरित करना पड़ा. कई जगहों पर मतदाताओं ने मतदाता सूची में अपना नाम नहीं होने की शिकायत की. कुछ मतदाताओं को अधिकारियों ने उनके नाम मतदाता सूची में नहीं होने की वजह से मत डालने नहीं दिया, जिसके बाद उन्होंने प्रदर्शन किया.

विधानसभा चुनावः जानिए किस राज्य में कितनी सीटें जीतकर मिलेगा बहुमत, कौन सी पार्टी बनाएगी सरकार

वित्तमंत्री इ.राजेंद्र के परिजनों के नाम भी मतदाता सूची में नहीं थे. वहीं बैडमिंटन खिलाड़ी ज्वाला गुट्टा ने भी ट्वीट कर कहा कि उनका नाम भी मतदाता सूची से नदारद है. चुनाव में सुपरस्टार चिरंजीवी, नागार्जुन, जूनियर एनटीआर, टेनिस स्टार सानिया मिर्जा और बैडमिंटन खिलाड़ी पी.वी. सिंधू ने भी मतदान किया. तेलंगाना राष्ट्र समिति (टीआरएस) के प्रमुख ने सिद्दीपेट जिले में अपने गांव में मतदान किया और विश्वास जताया कि उनकी पार्टी बहुमत के साथ दोबारा सत्ता पर काबिज होगी. मतदान प्रक्रिया संपन्न कराने के लिए 1.50 लाख से अधिक मतदानकर्मी तैनात किए गए हैं. मतदान के लिए 55,329 ईवीएम और 39,763 नियंत्रण इकाइयों की व्यवस्था की गई है. यहां पहली बार पूरे राज्य में वीवीपैट लगाए गए हैं.

Maha Exit Poll: मध्य प्रदेश में किसी भी पार्टी को बहुमत नहीं, कांग्रेस-बीजेपी में कांटे की टक्कर

चुनाव में तेलंगाना राष्ट्र समिति (टीआरएस) और विपक्षी कांग्रेस के नेतृत्व वाले पीपुल्स फ्रंट के बीच कड़ी टक्कर की उम्मीद की जा रही है. पीपुल्स फ्रंट में तेलुगू देशम पार्टी (तेदेपा), भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी और तेलंगाना जन समिति (टीजेएस) शामिल हैं. भारतीय जनता पार्टी (भाजपा), जो कि सभी सीटों पर चुनाव लड़ रही है, कुछ निर्वाचन क्षेत्रों में तीसरी बड़ी पार्टी है. मार्क्‍सवादी कम्युनिस्ट पार्टी (माकपा) और बहुजन समाज पार्टी (बसपा) की अगुवाई वाला बहुजन वाम मोर्चा भी अधिकांश सीटों पर चुनाव लड़ रहा है. ऑल इंडिया मजलिस-ए-इत्तेहादुल मुस्लिमीन (एआईएमआईएम) हैदराबाद में आठ सीटों पर चुनाव लड़ रही है. मतों की गणना 11 दिसंबर को होगी.