हैदराबाद: तेलंगाना विधानसभा चुनाव में एक ओर जहां भाजपा राज्य में सत्तारूढ़ टीआरएस और कांग्रेस का विकल्प बन कर सामने आने की जी तोड़ कोशिश में लगी है. वहीं, मुशीराबाद क्षेत्र में चुनावी मुकाबला दिलचस्प हो गया है. यहां से भाजपा के प्रदेश इकाई के अध्यक्ष के. लक्ष्मण फिर से निर्वाचित होने की जुगत में हैं. के. लक्ष्मण पहली बार 1994 में मुशीराबाद क्षेत्र से चुनाव लड़े थे, लेकिन उन्हें हार का सामना करना पड़ा था. इसके बाद वह 1999 में चुनाव जीते लेकिन 2004 और 2009 में उन्हें हार का सामना करना पड़ा था. इसके बाद भी बीजेपी अपने इस नेता को खास मानती है. और लगातार मौके देती आ रही है.

तेलंगाना चुनाव: प्रजाकुटमी की सफलता से तय होगा राष्‍ट्रीय स्‍तर पर महागठबंधन का स्‍वरूप!

भाजपा ने 2014 के चुनाव में एन. चंद्रबाबू नायडू की अगुवाई वाली तेदेपा से गठबंधन किया और लक्ष्मण टीआरएस के प्रतिद्वंद्वी एम गोपाल से 27,386 मतों के अंतर से जीते थे. सात दिसंबर को राज्य में होने जा रहा चुनाव भाजपा अकेले अपने दम पर लड़ रही है और लक्ष्मण को अपनी जीत पर पूरा भरोसा है. कार्यवाहक मुख्यमंत्री के चंद्रशेखर राव की अगुवाई वाली टीआरएस ने इस विधानसभा सीट से फिर से गोपाल को वहीं कांग्रेस ने एम. अनिल कुमार यादव को उतारा है. इस क्षेत्र में करीब 2.7 लाख मतदाता हैं.

तेलंगाना में उल्लुओं के दम पर चुनाव लड़ रहे नेता, विरोधी के भाग्य को दुर्भाग्य में बदलने की ‘चाल’

लक्ष्मण गरीबों के लिए मकानों का निर्माण, प्रशिक्षण तथा कौशल विकास केन्द्रों की स्थापना और शिक्षण संस्थानों को मजबूत बनने जैसे कामों को अपनी उपलब्धियां बता रहे हैं. उन्होंने बातचीत में कहा, ‘इसके अलाव मैंने एनटीआर स्टेडियम (शहर का एक प्रमुख स्टेडियम) को उस वक्त संरक्षित किया जब हमारे मुख्यमंत्री (के चंद्रशेखर राव) स्टेडियम को सांस्कृतिक सभागार में तब्दील करना चाहते थे और इंदिरा पार्क को तालाब बनाना चाहते थे.’

तेलंगाना विधानसभा चुनाव: चंद्रशेखर के लिए मुश्किल खड़ी कर सकता है ‘दक्षिण की अयोध्या’ की अनदेखी

तेलंगाना कांग्रेस की युवा इकाई के अध्यक्ष अनिल कुमार पहली बार चुनाव लड़ रहे हैं और पदयात्राओं के जरिए लोगों तक पहुंचने की कोशिश कर रहे हैं. यादव कहते हैं, ‘मुशीराबाद के इलाकों में काफी समस्याएं हैं और लोग हमें उनके बारे में बता रहे हैं. वे मेरे जैसे युवा उम्मीदवार का स्वागत कर रहे हैं. पंजाब के मंत्री नवजोत सिंह सिद्धू तथा तेदेपा प्रमुख एन चंद्रबाबू नायडू ने इस सप्ताह यादव के समर्थन में मुशीराबाद में प्रचार भी किया था. यादव सिकंदराबाद से कांग्रेस के पूर्व सांसद एम अंजन कुमार यादव के बेटे हैं.