नई दिल्ली: आगामी तेलंगाना विधानसभा चुनाव में कांग्रेस को भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी (भाकपा) की ओर से गठबंधन के लिए 21 अक्टूबर तक की समय सीमा देने के बाद कांग्रेस के राज्य प्रभारी रामचंद्र खूंटिया ने शुक्रवार को कहा कि अगले कुछ दिनों में दोनों पार्टियों के बीच ताल मेल पर सहमति बन जाने की संभावना है. Also Read - कोरोना के बीच CBSE कराएगा एग्जाम, प्रियंका गांधी ने केंद्रीय शिक्षा मंत्री से कहा- ये चौंकाने वाला फैसला, परीक्षाएं रद्द हों

Also Read - Assam Assembly Election 2021: चुनाव के नतीजों से पहले ही कांग्रेस और AIUDF ने अपने उम्मीदवारों को भेजा राजस्थान

सभी का लक्ष्य एक है Also Read - बंगाल को पहले कांग्रेस ने रौंदा, कम्युनिस्टों ने लूटा, अब TMC की गुंडागर्दी से बदहाल है: रैली में बोले CM योगी

राज्य प्रभारी खूंटिया ने यह भी कहा कि सीटों के तालमेल के साथ ही न्यूनतम साझा कार्यक्रम पर भी सहमति बनेगी. उन्होंने कहा, ‘भाकपा, तेदेपा और तेलंगाना जन समिति (टीजेएस) के साथ बातचीत चल रही है. अगले कुछ दिनों में सीटों के तालमेल और न्यूनतम साझा कार्यक्रम पर सहमति बनने की उम्मीद है.’

शिरडी पहुंचे पीएम मोदी, कहा- साईबाबा का संदेश मानवता को प्रेरित करता है

कांग्रेस के तेलंगाना प्रभारी ने कहा, ‘ये सभी पार्टियां तेलंगाना को के.चंद्रशेखर राव की सरकार से मुक्ति दिलाना चाहती हैं. सभी का लक्ष्य एक है. कौन कितनी सीटों लड़ेगी, इसे हम बातचीत से तय कर लेंगे.’ भाकपा ने गत बुधवार को तेलंगाना विधानसभा चुनाव के मद्देनजर सीटों के बंटवारे के लिए कांग्रेस को 21 अक्टूबर तक का समय दिया था और साथ ही तालमेल नहीं होने पर अकेले दम चुनाव लड़ने के संकेत दिए हैं.

अभी तय नहीं

भाकपा के राष्ट्रीय महासचिव सुरावरम सुधाकर रेड्डी ने कहा, ‘हम उनका (कांग्रेस) अनंत काल तक इंतजार (सीटों के बंटवारे के लिए) नहीं कर सकते हैं. 21 अक्टूबर को, हमारी पार्टी कार्यकारिणी की बैठक है. हम तय करेंगे कि हमें गठबंधन करना है या फिर अकेले दम चुनाव लड़ना है.’

UP: जुड़वा बच्चियों की हत्यारे पिता को कोर्ट ने सुनाई आजीवन कारावास की सजा

कांग्रेस, तेदेपा, भाकपा और तेलंगाना जन समिति (टीजेएस) ने कुछ सप्ताह पहले ही चुनाव पूर्व गठबंधन पर सैद्धांतिक सहमति बनाई थी. तेलंगाना की 119 सदस्यीय विधानसभा के लिए सात दिसंबर को चुनाव होने हैं. (इनपुट एजेंसी )