नई दिल्ली: अपने विवादित बयानों को लेकर सुर्खियों में रहने वाले राजा सिंह लोध तेलंगाना चुनावों में भाजपा के इकलौते विजयी उम्मीदवार के तौर पर उभरे हैं. लोध पर 60 से ज्यादा मामले दर्ज हैं जिनमें से अधिकतर भड़काऊ भाषणों को लेकर है. लोध ने हैदराबाद में गोशामहल विधानसभा सीट पर अपना कब्जा बरकरार रखा है. उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्य नाथ ने इस इलाके में उनके लिए प्रचार किया था. भाजपा की तेलंगाना इकाई के अध्यक्ष के लक्ष्मण और भंग विधानसभा में सदन में पार्टी के नेता किशन रेड्डी क्रमश: मुशीराबाद और अंबरपेट सीट से चुनाव हार गए. भाजपा ने कुल 119 में से 118 विधानसभा सीटों पर अपने उम्मीदवार उतारे थे और एक सीट अपनी सहयोगी युवा तेलंगाना पार्टी के लिए छोड़ दी थी.

Madhya Pradesh Elections Results 2018: शिवराज सिंह ने मानी हार, कहा- संख्याबल के आगे सिर झुकाता हूं

वर्ष 2014 में भाजपा, तेलुगू देशम पार्टी (टीडीपी) के साथ मिलकर चुनाव लड़ी थी और उसने कुल 119 में से पांच सीटों पर जीत दर्ज की थी. जीती गईं सभी पांच सीटें उप्पल, मुशीराबाद, अंबरपेट, गोशामहल और एलबी नगर हैदराबाद में थीं. बीजेपी 2014 में बने देश के सबसे नए राज्य में अपनी उपस्थिति दर्ज कराने और अपनी सीटों की संख्या बढाने के प्रयास में थे लेकिन उसे 4 सीटों का नुकसान उठाना पड़ा है.

Assembly Elections Results 2018: यही रहा ट्रेंड तो लोकसभा चुनाव में बीजेपी को इतनी सीटों का हो सकता है नुकसान

चुनावों से पहले भाजपा के राष्ट्रीय महासचिव पी मुरलीधर राव ने पार्टी के तेलंगाना में मजबूत पकड़ का दावा किया था. राज्य में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, भाजपा अध्यक्ष अमित शाह, गृह मंत्री राजनाथ सिंह और उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ सहित भाजपा के अन्य प्रमुख नेताओं ने पार्टी के लिए प्रचार किया था. वर्ष 2014 के विधानसभा चुनावों में, भाजपा ने टीडीपी के साथ चुनाव पूर्व गठबंधन किया था और 45 सीटों पर चुनाव लड़ा था जिसमें से पांच सीटें जीती थीं. टीडीपी ने लड़ी गईं 72 सीटों में से 15 पर जीत हासिल की थी. हालांकि उसके 12 विधायक टीआरएस और बाद में एक कांग्रेस में शामिल हो गए थे. वर्ष 2014 लोकसभा चुनावों में, टीआरएस ने 17 में से 11 सीटें जीती थीं.

Madhya Pradesh Elections Results: गढ़ में ही हारी बीजेपी, इस चूक को नहीं संभालने का भुगतना पड़ा खामियाजा

तेलंगाना में बीजेपी के इकलौते विजयी उम्मीदवार राजा सिंह लोध कई मौको पर भड़काऊ भाषण दे चुके हैं. राज्य में गोरक्षा के मुद्दे पर समर्थन नहीं मिलने से नाराज राजा ने अपना इस्तीफा तक दे दिया था. उस समय उन्होंने कहा था कि गोरक्षा के लिए हम मारेंगे या तो मर जाएंगे. हमारा उद्देश्य यह है कि कहीं भी गोवध न किया जाए. एक और मौके पर उन्होंने कहा था कि जो भी हिंदू समाज के खात्मे की बात करे उसे गोलियों से उड़ा दिया जाए. उन्होंने कहा था कि आज मैं अखंड हिंदू राष्ट्र का सपना देखता हूं और अयोध्या में भव्य राम मंदिर बने यह मेरा सपना है.

दो साल में एक के बाद एक कांग्रेस के हाथ से निकल गए पूर्वोतर के सारे राज्य

राजा ने कहा था कि गोमाता को पूरे देश में ही नहीं बल्कि पूरे विश्व में राजमाता का दर्जा मिले गोहत्या पर प्रतिबंध लगे यह मेरा सपना है. बंदूक की नोक पर मेरे कश्मीर में मेरे पंडितों को बसाया जाए और जो कोई भी हिंदू समाज को खत्म करने की बात करे, भारत देश पर आक्रमण की बात करे, ऐसे लोगों को बात से नहीं, बीच चौराहे पर खड़ा करके गोलियों से उड़ा दे, तोप से उड़ा दे.

(इनपुट-एजेंसी)