हैदराबाद: तेलंगाना में 1.10 करोड़ रुपए रिश्वत लेने के आरोप में रंगे हाथ पकड़े गए अधिकरी ने जेल की कोठरी में फांसी में लगा ली है. हैदराबाद की चंचलगुडा जेल में बंद तेलंगाना सरकार के एक अधिकारी ने खुदकुशी कर ली है. पुलिस ने बुधवार को जानकारी देते हुए बताया कि कीसरा के पूर्व तहसीलदार इरवा बलराजू नागराजू ने जेल की कोठरी में फांसी लगा ली है. Also Read - Weather Alert: बंगाल सहित इन राज्यों में अगले कुछ दिनों में भारी बारिश की चेतावनी, NDRF की टीमें तैयार

इसी साल अगस्त में तहसीलदार इरवा बलराजू नागराजू 1.10 करोड़ रुपए की रिश्वत लेते हुए रंगे हाथ पकड़ा गया था. पुलिस ने बुधवार को यह जानकारी देते हुए बताया कि कीसरा के पूर्व तहसीलदार, इरवा बलराजू नागराजू ने कथित तौर पर जेल की कोठरी में फांसी लगा ली. उनके शव को ऑटोप्सी के लिए उस्मानिया अस्पताल भेजा गया. दबीरपुरा पुलिस ने मामला दर्ज कर जांच शुरू कर दी है. Also Read - पश्चिम बंगाल: मनचाही पोस्टिंग के बदले रिश्वत लेने के आरोप में सरकारी कर्मचारी गिरफ्तार

भ्रष्टाचार रोधी ब्यूरो (एसीबी) ने 14 अगस्त को एक रियल एस्टेट डीलर से रिश्वत लेने के आरोप में अधिकारी को गिरफ्तार किया था. उन्होंने कथित तौर पर हैदराबाद के बाहरी इलाके कीसरा मंडल के रामपल्ली दयारा गांव की 19 एकड़ भूमि से संबंधित जमीन के मुद्दे को निपटाने के लिए 2 करोड़ रुपए की मांग की थी. Also Read - Hyderabad Flood Video: हैदराबाद में आफत की बारिश, सड़कों पर आया सैलाब, नदी में तब्दील हुईं शहर की गलियां

नागराजू, रियल एस्टेट डीलर चौला श्रीनाथ, एक अन्य रियल एस्टेट डीलर के. अंजी रेड्डी और ग्राम राजस्व सहायक (वीआरए) बोंगू साई राज के खिलाफ भ्रष्टाचार निवारण अधिनियम के तहत एक मामला दर्ज किया गया था. इन चारों को गिरफ्तार कर एसीबी मामलों की विशेष अदालत के समक्ष पेश किया गया था, जिसने इन्हें न्यायिक हिरासत में भेज दिया था. एसीबी ने नागराजू के आवास से 36 लाख रुपए, आधा किलो सोना और अचल संपत्ति के दस्तावेज भी बरामद किए थे.