बेंगलुरु: कर्नाटक के मुख्यमंत्री बी एस येदियुरप्पा ने बुधवार को कहा कि एक जून से मंदिरों के साथ मस्जिद और गिरजाघर भी श्रद्धालुओं के लिए खोले जा सकते हैं और सरकार को इस संबंध में केन्द्र सरकार से अनुमति मिलने का इंतजार है. मुख्यमंत्री ने कहा कि राज्य में होटलों को दोबारा खोले जाने के संबंध में भी प्रधानमंत्री को पत्र लिखा गया है.Also Read - इस राज्य में सैकड़ों मंदिर तोड़े जाने लेकर BJP पर साधा निशाना, कांग्रेस और JDS का हमला

उन्होंने कहा,‘‘ एक जून से मंदिर खोल दिए जाएंगे. होटलों और अन्य स्थानों को खोलने के संबंध में हमें दिल्ली में प्रधानमंत्री से अनुमति लेनी होगी. इस संबंध में मैंने पत्र लिखा है, उम्मीद है कि हमें अनुमति मिल जाएगी.’’ Also Read - Karnataka में सियासत, विपक्षी दल कांग्रेस के नेता बैलगाड़ी से पहुंचे विधानसभा

उन्होंने संवाददाताओं से बातचीत में कहा,‘‘ जब हम कहते हैं कि मंदिर खोले जाएंगे तो गिरजाघर और मस्जिदें भी खुलनी चाहिए, उन पर कोई पाबंदी नहीं होगीं’’ उन्होंने कहा,‘‘हमारे देश में कानून सब के लिए समान है …. लेकिन इन सब के लिए केंद्र सरकार की अनुमति की आवश्यकता है. हम इसकी प्रतीक्षा कर रहे हैं, हम इस दिशा में प्रयास कर रहे हैं.’’ उन्होंने कहा,‘‘ हमें कोरोना वायरस के साथ जीना शुरू करना होगा और इसके लिए कदम उठाने की जरूरत है.’’ येदियुरप्पा का यह बयान मंदिरों को खोलने और मस्जिदों और गिरजाघरों के बारे में कोई उल्लेख नहीं होने पर कुछ वर्गों द्वारा उठाए गए सवालों के जवाब में था. Also Read - IIT-Madras भारत में सर्वश्रेष्ठ संस्थान, JNU, BHU ने हासिल की ये जगह : NIRF रैंकिंग

हिंदू धार्मिक संस्थानों और धर्मार्थ प्रबंधन (मुजराई) मंत्री कोटा श्रीनिवास पुजारी ने मंगलवार को मुख्यमंत्री और वरिष्ठ अधिकारियों के साथ बैठक के बाद कहा था कि राज्य में दो महीने से अधिक समय से मंदिर बंद चल रहे हैं और उन्हें एक जून से श्रद्धालुओं के लिए खोला जाएगा.

हालांकि आधिकारिक सूत्रों ने कहा था कि मंदिरों को खोलने का निर्णय लॉकडाउन पर केन्द्र के दिशानिर्देशों पर आधारित होगा. मॉल और सिनेमाघर खोलने के संबंध में एक सवाल पर उन्होंने कहा, ‘‘यह सब केन्द्र की अनुमति पर निर्भर करेगा मैं कोई निर्णय नहीं ले सकता.’’