श्रीनगर. एक तरफ पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान भारत के साथ शांति वार्ता करना चाहते हैं तो दूसरी तरफ उनकी सेना कश्मीर में घुसपैठियों को सपोर्ट करने में लगी है. अंग्रेजी अखबार टाइम्स ऑफ इंडिया ने शीर्ष खुफिया सूत्रों के हवाल से लिखा है कि पाकिस्तानी सेना के सपोर्ट से आतंकी ग्रुप ने पाकिस्तान अधिकृत कश्मीर (PoK) में स्थिति लाइन ऑफ कंट्रोल में 8 नए लॉन्च पैड बना लिए हैं.

रिपोर्ट में सूत्रों के हवाले से लिखा गया है कि 8 नए लॉन्च पैड के बाद बॉर्डर एरिया में कुल 27 लॉन्च पैड हो गए हैं, जिनसे 250 आतंकी जम्मू-कश्मीर में घुसपैठ करने की कोशिश कर रहे हैं. 8 नए लॉन्च पैड लीपा वैली में हैं जो कि उन दो रणनीतिक लोकेशन में एक है, जिसे भारतीय जवानों ने 29 सितंबर को सर्जिकल स्ट्राइक करके नष्ट कर दिया था.

पाकिस्तान से नहीं होगी बात
बता दें इससे पहले कश्मीर में तीन जवानों के अपहरण कर हत्या की घटना के बाद कि भारत ने UNGA मीटिंग से इतर पाकिस्तान के विदेशमंत्री से बातचीत के प्रस्ताव को ठुकरा दिया है. तीनों जवानों की हत्या में हिजबुल मुजाहिद्दीन आतंकी संगठन का नाम सामने आया है.

बुरहान के एनकाउंटर के बाद अशांति
कश्मीर में जुलाई 2016 में हिजबुल कमांडर बुरहान वानी के एनकाउंटर के बाद से अशांति है. हालांकि, पत्थरबाजी और भीड़ द्वारा हिंसा में कमी देखने को मिली है, लेकिन पाकिस्तान के सपोर्ट से अब भी वहां वारदातों को अंजाम दिया जा रहा है. वहीं, घुसपैठ और सीजफायर उल्लंघन की भी कोशिश लगातार जारी है.

बढ़ गए थे लॉन्च पैड
बताया जा रहा है कि बुरहान के एनकाउंटर से पहले पीओके में सिर्फ 14 लॉन्च पैड थे और तकरीबन 160 आतंकी कैंप थे. लेकिन बुरहान के एनकाउंटर के बाद आतंकवादी ट्रेनिंग कैंप में तेजी देखने को मिली है. इसके बाद से वहां 230 तक आतंकवादियों के होने की सूचना है. इसके साथ ही लॉन्च पैड की भी संख्या बढ़ गई थी.