जम्मू: केंद्र की नरेंद्र मोदी सरकार की नीतियों के चलते जम्मू-कश्मी में आतंकवाद खत्म होने के कगार पर पहुंच गया है. केंद्रीय मंत्री जितेन्द्र सिंह ने शनिवार को दावा किया कि जम्मू-कश्मीर में आतंकवाद अपने अंतिम दौर में है. उम्मीद जताई कि हर वर्ष होने वाली अमरनाथ यात्रा के लिए अगले वर्ष से सुरक्षा की जरूरत नहीं होगी.

6 महीने में 170 हमले और 69 जवान शहीद, कितना सही है कश्मीर में आतंकवाद के खात्मे का दावा

उन्होंने कहा कि 46 दिनों तक चलने वाली यात्रा के लिए इस वर्ष सुरक्षा के पर्याप्त इंतजाम किए गए हैं. यात्रा एक जुलाई से अनंतनाग जिले के पहलगाम और गंदेरबल जिले के बालटाल से शुरू होगी. उधमपुर के सांसद ने कहा कि अगले वर्ष से यात्रा के लिए सुरक्षा की जरूरत नहीं होगी क्योंकि मेरी अंतरात्मा कहती है कि राज्य में आतंकवाद अंतिम चरण में है. 3880 मीटर की ऊंचाई पर स्थित मंदिर के लिए श्रद्धालुओं का पहला जत्था रविवार को यहां के भगवती नगर आधार शिविर से रवाना होगा.

J&K: पुलवामा IED ब्‍लास्‍ट में घायल दो जवानों ने दम तोड़ा, 24 घंटे में मेजर समेत 4 जवान शहीद

प्रधानमंत्री कार्यालय में राज्यमंत्री ने कहा कि अमरनाथ यात्रा हमारी आस्था का हिस्सा है और यह हमारी समृद्ध संस्कृति का ज्वलंत उदाहरण है और इसका धार्मिक महत्व केवल क्षेत्र के लिए नहीं है बल्कि पूरे देश के लिए है. उन्होंने उम्मीद जताई कि घाटी में श्रद्धालुओं का पारंपरिक तरीके से स्वागत किया जाएगा.

जम्मू कश्मीर के राज्यपाल बोले- आतंकी जंग हार गए हैं, इसलिए कर रहे हैं हमले