श्रीनगर: जम्मू-कश्मीर के डीजीपी दिलबाग सिंह ने बुधवार को घोषणा की कि अलकायदा के सहयोगी संगठन अंसार गजवातुल हिंद (AGH) का कश्मीर घाटी से पूरी तरह सफाया हो गया है. इसके साथ ही उन्होंने एक प्रेस कांफ्रेंस को संबोधित करते हुए कहा कि त्राल एनकाउंटर में मारे गए आतंकियों की पहचान हो गई है। ये तीनों आतंकी संगठन अंसार गवाजतउल हिंद के थे. इस एनकाउंटर में कमांडर हामिद लल्हारी भी मार गिराया गया है. दिलबाग सिंह ने कहा कि एनकाउंटर में मारे गए तीनों आतंकी स्थानीय हैं और तीनों अंसार गवाजतउल हिंद के ही हैं.

सिंह ने कहा, ‘‘एजीएच का सफाया हो गया है लेकिन कुछ तत्व हैं जो अब भी यहां सक्रिय हैं. वे अचानक सामने आते हैं और आतंकवादियों के साथ जा मिलते हैं, लेकिन फिलहाल एजीएच का कश्मीर से सफाया हो गया है.’’ त्राल में मारे गए तीन आतंकवादियों की पहचान हमीद लोन उर्फ हामिद लल्हारी, नवीद अहमद टाक और जुनैद राशिद भट के रूप में हुई है. तीनों पुलवामा जिले के रहने वाले थे. पुलिस महानिदेशक ने कहा, ‘‘पुलिस रिकॉर्ड के अनुसार मारे गए सभी आतंकवादी जाकिर मूसा के संगठन का हिस्सा थे और सुरक्षा प्रतिष्ठानों पर हमले तथा आम नागरिकों पर अत्याचार के कई मामलों समेत आतंकवाद से जुड़े अपराध की कई घटनाओं में संलिप्तता को लेकर वांछित थे.’’

पाकिस्‍तानी गायिका ने सुसाइडल ड्रेस पहनकर PM मोदी के साथ कुछ ऐसा करने की ख्‍वाहिश बताई

सिंह ने बताया कि आतंकवादियों का समूह पाकिस्तान आधारित जैश ए मोहम्मद (JeM) के साथ मिलकर काम कर रहा था. उन्होंने कहा, ‘‘जेईएम कश्मीर में प्रत्येक आतंकवादी संगठन के साथ समन्वय की कोशिश कर रहा है. जेईएम और लश्कर-ए-तैयबा को पाकिस्तान से निर्देश मिलते हैं कि कौन उनका निशाना है, किस स्तर पर और किस किस्म की हिंसा उन्हें भड़कानी है.’’ सिंह ने कहा, ‘‘इसलिए जेईएम और लश्कर दोनों, प्रत्येक संगठन के साथ तालमेल बनाने की कोशिश कर रहे हैं. अगर आपको याद हो तो त्राल में दो गुज्जर भाई मारे गए थे और जेईएम से संबद्ध पाकिस्तानी आतंकवादी यासिर इस घटना में शामिल था. वह इस समूह के संपर्क में था.’’