नई दिल्ली: जम्मू- कश्मीर के बड़गाम जिले में बुधवार को सुरक्षा बलों और आतंकवादियों के बीच हुई मुठभेड़ में दो आतंकवादी मारे गए वहीं तीन जवान घायल हो गए. मुठभेड़ में लश्कर कमांडर नवीद जट भी मारा गया. नवीद राइजिंग कश्‍मीर अखबार के संपादक शुजात बुखारी की हत्या में शामिल था.कठपोरा गांव में आतंकवादियों की मौजूदगी की खुफिया जानकारी मिलने के बाद सुरक्षाबलों ने घेराबंदी और तलाशी अभियान शुरू किया.

रायबरेली जेल वीडियो : अखिलेश का योगी सरकार पर हमला, कहा- जेलों में ‘रामराज्य’

पुलिस के एक अधिकारी ने बताया कि सुरक्षाबल के जवान जैसे ही छिपे हुए आतंकवादियों के करीब पहुंचे, वैसे ही आतंकवादियों ने गोलीबारी शुरू कर दी, जिसके बाद दोनों और से मुठभेड़ अधिकारियों ने बडगाम और पुलवामा जिलों में मोबाइल इंटरनेट सेवाओं को निलंबित कर दिया है. श्रीनगर में जून में तीन बाइक सवार आतंकियों ने शुजात बुखारी की गोली मारकर हत्‍या कर दी थी. इस हत्याकांड में कश्मीर हॉस्पिटल से फरार आतंकी नवीद जट का नाम सामने आया था.

‘ओडिशा में अगले साल होने वाले चुनाव में धर्मेंद्र प्रधान बीजेपी के मुख्यमंत्री पद के उम्मीदवार होंगे’

बता दें कि दक्षिण कश्मीर के बिजबेहरा में शुक्रवार तड़के हुई मुठभेड़ में पाकिस्तान के आतंकवादी संगठनों लश्कर-ए-तैयबा और हिज्बुल मुजाहिदीन के छह आतंकवादी मारे गए थे. इनमें पत्रकार शुजात बुखारी हत्याकांड में संलिप्त आतंकवादी और तीन कमांडर थे. पुलिस ने कहा कि सुरक्षाबलों ने गुरुवार की रात एक ठिकाने पर आतंकवादियों की मौजूदगी के बारे जानकारी मिलने के बाद वागाहामा शक्तिपुरा के तलहटी क्षेत्र में तलाशी अभियान चलाया. एक घर से गोलियां चलाई जा रही थीं. अंधेरे का फायदा उठाकर आतंकवादियों ने भागने का प्रयास किया और मुठभेड़ में छह आतंकवादी मारे गए.

इस राज्य में एसआई से नीचे रैंक के अधिकारी नहीं कर पाएंगे मोबाइल का इस्तेमाल, DGP ने लगाई रोक

पुलिस महानिरीक्षक (कश्मीर रेंज) स्वयं प्रकाश पाणि ने बताया कि मौके से मिली खुफिया जानकारी के आधार पर तेज अभियान चलाया गया. पुलिस के अनुसार मारे गए आतंकवादियों की पहचान बिजबेहरा के आजाद अहमद मलिक, बिजबेहरा के यूनिस शफी, पुशवारा अनंतनाग के बासित इश्तियाक, वाघामा बेजबेहरा के आतिफ नजर, मुचपूना पुलवामा के फिरदौस अहमद और क्वानी अवंतीपोरा के शाहिद बशीर के रूप में हुई. पुलिस प्रवक्ता ने कहा कि यह हिज्बुल मुजाहिदीन और लश्कर ए तैयबा आतंकी समूहों का संयुक्त समूह था. पुलिस रिकार्ड के अनुसार, यूनिस शफी और बासित इश्तियाक हिज्बुल के साथ थे तथा यूनिस अनंतनाग जिले का हिज्बुल कमांडर था. अन्य लश्कर के सदस्य थे.

आज करतारपुर कॉरिडोर की नींव रखेंगे पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान

सभी छह आतंकवादी सुरक्षा प्रतिष्ठानों पर हमले तथा नागरिकों पर अत्याचार सहित कई आतंकी गतिविधियों में संलिप्तता के लिए वांछित थे.’ पुलिस ने कहा कि अनंतनाग के लश्कर जिला कमांडर आजाद अहमद मलिक उर्फ आजाद दादा इस साल अप्रैल में अपने एक साथी के साथ खुदवानी कुलगाम में मुठभेड़ स्थल से फरार हो गया था. आजाद फरार आरोपी नवीद जट्ट का करीबी सहयोगी था और वह पत्रकार शुजात बुखारी और उनके सुरक्षाकर्मियों की हत्या मामले में वांछित था. इस मामले में, एकत्रित मजबूत साक्ष्यों के आधार पर उसके और तीन अन्य के खिलाफ एक नोटिस जारी किया गया था.