श्रीनगर. केंद्र द्वारा 5 सितंबर को जम्मू कश्मीर को विशेष राज्य का दर्जा देने वाले अनुच्छेद 370 के अधिकतर प्रावधानों को निरस्त करने और राज्य को दो केंद्रशासित प्रदेशों में बांटने के बाद राज्य में सरकार और स्थानीय प्रशासन तनाव कम करने के हरसंभव प्रयास कर रहे हैं. कश्मीर घाटी और जम्मू क्षेत्र में स्थिति सामान्य हो रही है. इस बीच गुरुवार की रात श्रीनगर के बाहरी इलाके में हुए एक आतंकी वारदात से एक बार फिर तनाव फैल गया है. श्रीनगर शहर की बाहरी सीमा में आतंकवादियों ने एक दुकानदार की बृहस्पतिवार रात गोली मार कर हत्या कर दी.

प्रशासनिक अधिकारियों ने कहा कि मृतक की पहचान परीम पोरा स्थित एक दुकान के मालिक गुलाम मोहम्मद के तौर पर की गई है. अधिकारियों ने कहा कि तीन युवा मोटरसाइकिल पर आए और दुकानदार पर गोलियां बरसा दीं जब वह अपनी दुकान बंद कर रहा था. उन्होंने कहा कि घटना के बाद इलाके में सुरक्षा और बढ़ा दी गई है और पुलिस हत्यारों की तलाश कर रही है. आपको बता दें कि जम्मू-कश्मीर में संदिग्ध आतंकियों और अलगाववादियों द्वारा अफवाहें फैलाने की आशंका को लेकर केंद्र सरकार ने राज्य में लैंडलाइन, मोबाइल और इंटरनेट सेवाओं पर पाबंदी लगा दी थी.

बीते दिनों जम्मू कश्मीर के राज्यपाल सत्यपाल मलिक ने कहा भी था कि इंटरनेट और फोन सेवाएं इसलिए बंद की गई हैं क्योंकि लोगों को एकत्र करने तथा युवाओं को बरगलाने में ये आतंकवादियों और पाकिस्तान के लिए ज्यादा उपयोगी है. उन्होंने संकेत दिया कि सेवाएं कुछ और समय तक स्थगित रहेंगी. मलिक ने कहा था कि इंटरनेट का माध्यम हमारे लिए कम उपयोगी है, लेकिन यह आतंकवादियों, पाकिस्तानियों के लिए अधिक उपयोगी है. इसका इस्तेमाल भीड़ जुटाने और बरगलाने के लिए भी किया जाता है. उन्होंने कहा था कि यह हमारे खिलाफ एक तरह का हथियार है, इसलिए हमने इसे रोका है और हम धीरे-धीरे इसे बहाल कर देंगे.