सेना प्रमुख जनरल बिपिन रावत ने बुधवार को एक कार्यक्रम के दौरान कहा कि आतंकी लेटेस्ट टेक्नोलॉजी का इस्तेमाल कर अंतरराष्ट्रीय सीमाओं में घुसपैठ कर रहे हैं. हमें आतंकियों और उन्हें बढ़ावा देने वालों को रोकने की जरूरत है. इसके साथ ही ऐसे देशों को पहचानने की जरूरत है, जो आतंकियों को बढ़ावा दे रहे हैं. Also Read - बॉर्डर पर सेना की तैयारियों का जायजा लेने जम्मू पहुंचे सेना प्रमुख, बोले- पाक की हरकतों के खिलाफ जीरो टॉलरेंस

रावत ने आगे यह भी कहा कि, न्यूक्लियर और केमिकल हथियारों का आतंकवादियों के हाथों में जाने का खतरा मानवता के लिए घातक साबित हो सकता है.

इससे पहले सोमवार को सेना प्रमुख ने कहा कि अगर पाकिस्तान लगातार आतंकवाद को समर्थन और आतंकवादियों की घुसपैठ को जारी रखेगा तो भारत उसके खिलाफ ‘कार्रवाई’ को बढ़ाएगा. करिअप्पा परेड ग्राउंड में 70वें सेना दिवस समारोह के अवसर पर सेना प्रमुख ने कहा कि पाकिस्तान की ओर से किसी भी उकसावे वाली कार्रवाई का माकूल जवाब दिया जाएगा.

उन्होंने कहा था, “नियंत्रण रेखा (एलओसी) पर पाकिस्तानी सेना लगातार संघर्ष विराम का उल्लंघन कर रही है और आतंकवादियों को भारत में घुसपैठ करने में मदद दे रही है.हम अपनी ताकत से उन्हें सबक सिखा रहे हैं. पाकिस्तान की तरफ से किसी भी उकसावे वाली कार्रवाई का माकूल जवाब दिया जाएगा.”