भारत की सुरक्षा चुनौतियों का प्रभावी रूप से सामना करने के लिए सेना, नौसेना एवं वायुसेना के संयुक्त अभियान सिद्धांत को आज जारी किया गया. यह सिद्धांत समन्वित ढंग से सैन्य शक्ति के उपयोग के लिए एक आधारशिला का काम करेगा. इसके अलावा यह दक्षता तथा संसाधनों के इष्टतम उपयोग को सुनिश्चित करेगा.

नौसेना प्रमुख एवं चीफ आफ स्टाफ कमेटी के चेयरमैन एडमिरल सुनील लाम्बा ने यहां इस दस्तावेज को जारी किया. इस अवसर पर सेना प्रमुख बिपिन रावत एवं भारतीय वायुसेना प्रमुख बी एस धनोवा भी उपस्थित थे. रक्षा मंत्रालय ने एक बयान में कहा, ‘‘जीवन के किसी भी अन्य पक्ष की तरह सशस्त्र बलों में एकजुटता एवं समन्वय आज की जरूरत है इसलिए इस सिद्धांत को जारी करने का इससे बेहतर कोई और समय नहीं हो सकता.

इसमें कहा गया कि सिद्धांत भूमि, वायु, समुद्र, अंतरिक्ष एवं साइबर स्पेस जैसे संघर्ष के सभी क्षेत्रों में संयुक्त अभियान की योजना एवं अंजाम देने की परिकल्पनाओं और नियमों के एक व्यापक ढांचे को कायम करने की सुविधा प्रदान करेगा. इसके अलावा यह सिद्धांत सभी तीनों सेनाओं के लिए समन्वित अभियानों की योजना बनाने के उद्देश्य से एक सन्दर्भ दस्तावेज के रूप में भी काम करेगा.