मुंबई/नई दिल्ली. भारतीय रिजर्व बैंक के वरिष्ठतम डिप्टी गवर्नर एन.एस. विश्वनाथन को अंतरिम रूप से केंद्रीय बैंक का प्रमुख बनाया जा सकता है. सूत्रों ने सोमवार को यहां कहा कि गवर्नर उर्जित पटेल द्वारा अचानक इस्तीफा देने के बाद विश्वनाथन को रिजर्व बैंक का अंतरिम प्रमुख नियुक्त किया जा सकता है. सूत्रों ने कहा कि यदि विश्वनाथन को अंतरिम प्रमुख बनाया जाता है तो वह शुक्रवार को होने वाली केंद्रीय बोर्ड की बैठक की अध्यक्षता करेंगे. विश्वनाथन को चार जुलाई, 2016 को तीन साल के लिए रिजर्व बैंक का डिप्टी गवर्नर नियुक्त किया गया था. इधर, सरकार ने पटेल के इस्तीफा देने के बाद उनके उत्तराधिकारी की तलाश के लिए एक समिति बनाई है. कैबिनेट सचिव की अध्यक्षता वाली यह उच्चस्तरीय समिति रिजर्व बैंक के नए गवर्नर की तलाश करेगी. Also Read - Coronavirus: EMI भुगतान के SMS से कर्जदारों में तीन महीने की मोहलत को लेकर भ्रम

रघुराम राजन ने उर्जित के इस्तीफे पर कहा, हर भारतीय को चिंतित होना चाहिए, यह गतिरोध क्यों बना Also Read - कोरोना का कहर, सरकार और RBI के प्रोत्साहन के बावजूद झेलनी पड़ी आर्थिक गिरावट

केंद्रीय बोर्ड की शुक्रवार को होने वाली बैठक इस दृष्टि से महत्वपूर्ण है क्योंकि इसमें कामकाज के संचालन से जुड़े मुद्दे और उत्पादक क्षेत्रों विशेषरूप से सूक्ष्म, लघु एवं मझोले उपक्रमों (एमएसएमई) को ऋण के प्रवाह पर चर्चा होगी. सूत्रों ने कहा कि रिजर्व बैंक जैसे महत्वपूर्ण संस्थान को ज्यादा समय तक बिना मुखिया के नहीं रखा जा सकता. ऐसे में सरकार जल्द पटेल की जगह नए गवर्नर की नियुक्ति की प्रक्रिया शुरू करेगी. रिजर्व बैंक के अन्य तीन गवर्नरों में विरल आचार्य, बीपी कानूनगो तथा एम.के. जैन शामिल हैं. Also Read - PM मोदी ने कहा, RBI की घोषणाएं अर्थव्यवस्था को कोरोना वायरस के संक्रमण से बचाएंगी

केन्या निवासी पटेल RBI ज्वाइन करने के बाद बने थे ‘भारतीय’, असहमति में इस्तीफा देने वाले पांचवें गवर्नर

केन्या निवासी पटेल RBI ज्वाइन करने के बाद बने थे ‘भारतीय’, असहमति में इस्तीफा देने वाले पांचवें गवर्नर

सूत्रों के अनुसार सरकार नए रिजर्व बैंक गवर्नर की नियुक्ति के लिए प्रक्रिया को जल्द ही शुरू करेगी. कैबिनेट सचिव पी.के. सिन्हा की अध्यक्षता वाली वित्तीय क्षेत्र की नियामकीय नियुक्ति खोज समिति में प्रधानमंत्री के अतिरिक्त प्रधान सचिव पी.के. सिन्हा और तीन अन्य विशेषज्ञ शामिल हैं. समिति जल्द ही पात्र उम्मीदवारों से आवेदन आमंत्रित कर सकती है. समिति के सदस्य जैसे ही नाम का चयन करते हैं उसे प्रधानमंत्री की अध्यक्षता वाली मंत्रिमंडल की नियुक्ति समिति को भेज दिया जाएगा.