नई दिल्ली: शराब के नशे में अपनी पत्नी को सीढ़ियों से धक्का देकर गंभीर रूप से जख्मी करने वाले एक व्यक्ति को दिल्ली की एक अदालत ने तीन महीने के कारावास की सजा सुनाई है. अपने कृत्य को लेकर उस व्यक्ति को पछतावा होने के मद्देनजर अदालत ने नरम रवैया अपनाया. अदालत ने उसे आईपीसी की धारा 308 के तहत गैर इरादतन हत्या के प्रयास के लिये तीन महीने और 12 दिन की सजा सुनाई. यह अवधि वह मुकदमे के दौरान पहले ही जेल में बिता चुका है. अदालत ने इस बात पर गौर किया कि घटना के तुरंत बाद पीड़िता और उसकी बेटी उससे अलग हो गई. Also Read - 'तुम इस तरह विकेट गिफ्ट करके नहीं जा सकते...' Rohit Sharma के आउट होने पर भड़के सुनील गावस्‍कर

दोषी का पिछला रिकॉर्ड बेदाग, लगता है कि उसने अपनी आदतें सुधार ली: कोर्ट
अतिरिक्त सत्र न्यायाधीश विवेक कुमार गुलिया ने कहा ,‘दोषी को आईपीसी की धारा 308 (भाग दो) के अपराध का दोषी ठहराया जाता है, जिसके लिये सात साल तक के कारावास की सजा का प्रावधान है. दोषी का बेदाग रिकॉर्ड है और ऐसा लगता है कि उसने अपनी आदतें सुधार ली हैं.’ उन्होंने कहा ,‘साथ ही ऐसा लगता है कि उसे अपने कृत्य पर पछतावा है.इसके अलावा, शिकायतकर्ता और उनकी बेटी पहले ही दोषी का साथ छोड़ चुकी हैं.इस अदालत की राय है कि दोषी के खिलाफ नरम रुख अपनाए जाने की जरूरत है. दोषी को उस अवधि के लिये सजा सुनाई जाती है जो वह पहले ही जेल में बिता चुका (तीन महीने और 12 दिन) है.’ Also Read - 'इंस्पेक्टर अविनाश' की भूमिका में धमाल मचाएंगे रणदीप हुड्डा, उर्वशी रौतेला का भी रहेगा कहर 

शराब के नशे में पत्नी को सीढ़ियों से धक्का दिया, कई फ्रैक्चर हुए थे
अभियोजन पक्ष के अनुसार प्राथमिकी पीड़िता की शिकायत पर दर्ज की गई थी. शिकायत में आरोप लगाया गया था कि 16 अप्रैल 2016 को शिकायतकर्ता के पति ने शराब के नशे में उसके साथ गाली-गलौज शुरू कर दी और जब उसने इसका विरोध किया तो उसने मारपीट की. इससे पहले कि उसकी बेटी उसे बचाती, उसके पति ने उसे सीढ़ियों से धकेल दिया. इसकी वजह से उसके शरीर में कई फ्रैक्चर हुए और हाथ, चेहरे और सिर में चोट आई.यह घटना दक्षिण पश्चिम दिल्ली के डाबरी इलाके में उनके घर में हुई. (इनपुट एजेंसी ) Also Read - देश में कोविड-19 के 15,158 नए मामले सामने आए, संक्रमण से 175 मरीजों की मौत