नई दिल्लीः हरियाणा के पंचकुला में 25 अगस्त 2017 को हुए दंगे के मामले में अदालत ने एक बड़ा फैसला सुनाया है. अदालत में इस मामल में सभी आरोपियों से देश द्रोह के आरोप हटा लिए हैं. कोर्ट के इस फैसले से डेरा सच्चा सौदा के प्रमुख राम रहीम सबसे खास मानी जाने वाली हनीप्रीत को बड़ी राहत मिली है. पंचकुला हिंसा मामले में पुलिस ने हनीप्रीत सहित सभी लोगों पर देशद्रोह के आरोप लगाए थे लेकिन आज के फैसले से पुलिस को एक बड़ा झटका लगा है.

पुलिस द्वारा हनीप्रीत के खिलाफ सबूत न पेश करने के बाद अदालत ने यह फैसला लिया. हनीप्रीत अंबाला जेल में है और अब उस पर धारा 216, 145, 150, 151, 152, 153 और 120बी ते तहत केस चलाया जाएगा. शनिवार को हुई सुनवाई में सभी आरोपियों को वीडियों कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए कोर्ट में पेश किया गया. इस सुनवाई के बाद सभी आरोपियों से आईपीसी की धारा 121 और 121 ए को हटा लिया गया.

आपको याद दिला दें कि डेरा सच्चा सौदा के प्रमुख राम रहीम इस समय जेल में 20 साल की सजा काट रहे हैं. कोर्ट ने राम रहीम को यह सजा दो अलग अलग मामलों के तहत सुनाई थी. शनिवार को जब हनीप्रीत को सुनवाई के लिए पेश किया गया तो पुलिस हनीप्रीत और दूसरे आरोपियों के खिलाफ देशद्रोह साबित करने में नाकाम रही जिसके बाद उन सभी लोगों से देशद्रोह की धारा हटा दी गई.

यौन शोषण और पत्रकार की हत्या के मामले में 25 अगस्त 2017 को राम रहीम को सजा सुनाए जाने के बाद पूरे पंचकुला में दंगा फैल गया था इसमें हनीप्रीत को मुख्य आरोपी माना गया था. इस पूरे दंगे में कुल 36 लोगों की जान चली गई थी. पुलिस ने इसमें 14 लोगों को आरोपी बनाया था.