मुंबई: राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (NCP) ने मंगलवार को कहा कि अगर भाजपा (BJP) महाराष्ट्र विधानसभा में बहुमत साबित करने में नाकाम रहती है तो एक वैकल्पिक सरकार के गठन पर विचार किया जा सकता है. NCP प्रवक्ता नवाब मलिक ने यह टिप्पणी की. वहीं, शिवसेना ने सरकार गठन पर भाजपा के साथ अपनी बैठक मंगलवार को रद्द कर दी. बैठक रद्द किये जाने के कुछ घंटे पहले महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री देवेंद्र फड़णवीस ने इस बात से इनकार किया कि सत्ता साझेदारी फार्मूले के तहत शिवसेना को 2.6 साल के लिये मुख्यमंत्री पद का भरोसा दिलाया गया है. गौरतलब है कि 21 अक्टूबर को हुए 288 सदस्यीय राज्य विधानसभा चुनाव में भाजपा सबसे बड़े दल के रूप में उभरी और उसे 105 सीटें प्राप्त हुई. वहीं, शिवसेना ने 56, राकांपा ने 54 और कांग्रेस ने 44 सीटों पर जीत दर्ज की.

पूर्व वित्र मंत्री चिदंबरम क्रोन्स नामक खतरनाक बिमारी से हुए ग्रस्त, तुरंत इलाज की जरूरतः सूत्र

मलिक ने कहा, ‘‘राज्यपाल (भगत सिंह कोश्यिारी) अगले कुछ दिनों में देवेंद्र जी को सरकार बनाने का न्यौता दे सकते हैं. सवाल यह है कि क्या शिवसेना के मंत्री शपथ लेते हैं या नहीं (फड़णवीस के साथ). और फड़णवीस को 14-15 दिनों में सदन में अपनी संख्या बल साबित करनी होगी.’’ NCP के नगर प्रमुख ने कहा कि यदि शिवसेना सदन में सरकार गिरने की वजह बनती है…‘तो हम इस बारे में सोच सकते हैं कि क्या किया जा सकता है.’’

पार्टी प्रमुख शरद पवार के शिवसेना के साथ जाने की किसी संभावना से इनकार करने के कुछ दिनों बाद मलिक का यह बयान आया है. वहीं, NCP के सहयोगी दल कांग्रेस ने उद्धव ठाकरे की पार्टी के साथ किसी तरह की सौदेबाजी करने से आधिकारिक रूप से इनकार किया है. हालांकि, राज्य के एक पूर्व मुख्यमंत्री ने कहा था कि भाजपा को सत्ता से दूर रखने के लिये विकल्प तलाशे जा सकते हैं.

दिलचस्प है कि शरद पवार की पार्टी ने 2014 के विधानसभा चुनाव के फौरन बाद भाजपा का बाहर से समर्थन करने की घोषणा की थी. उस चुनाव में भाजपा को 122 सीटें मिली थी, जबकि शिवसेना ने 63 सीटों पर जीत दर्ज की थी. दोनों भगवा दलों ने अपने-अपने बूते चुनाव लड़ा था. बाद में शिवसेना सरकार में शामिल हो गई थी.