सरकार ने सोमवार को कहा कि वह जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय (जेएनयू) विवाद, आरक्षण के लिए चल रहे जाट आंदोलन और अन्य महत्वपूर्ण मुद्दों पर मंगलवार से शुरू होने जा रहे संसद के बजट सत्र में विस्तार से परिचर्चा कराना चाहती है।संसदीय कार्यमंत्री वेंकैया नायडू ने इस महत्वपूर्ण बजट सत्र से पहले सर्वदलीय बैठक की अध्यक्षता करते हुए कहा कि सरकार सभी महत्वपूर्ण मुद्दों पर परिचर्चा कराने के पक्ष में है।यहाँ भी पढ़े:हरियाणा : हिंसा में अब तक 16 मरे

बैठक के बाद नायडू ने संवाददाताओं से कहा, “हम चाहते हैं कि जेएनयू पर विस्तार से परिचर्चा हो, लोगों को यह जानना चाहिए कि वास्तव में वहां क्या हुआ, कारण क्या था और नतीजा क्या हुआ।”उन्होंने कहा कि वस्तु एवं सेवाकर (जीएसटी) विधेयक सहित बजट सत्र में कुल 32 विषयों पर विचार होना है।

भारत विरोधी नारे लगाने के आरोपी छात्रों पर पुलिस की कार्रवाई से जेएनयू उबल रहा है।जाट समुदाय शिक्षण संस्थानों और नौकरियों में ओबीसी कोटे के तहत आरक्षण की मांग कर रहा है। इसके लिए हरियाणा में प्रदर्शन हो रहे हैं और हिंसा फैली हुई है।