कोटा: राफेल लड़ाकू विमान सौदे को लेकर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर हमले जारी रखते हुए कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने बृहस्पतिवार को कहा कि प्रधानमंत्री ने सीबीआई के प्रमुख को इसलिए हटा दिया क्योंकि एजेंसी इस सौदे की जांच की प्रक्रिया शुरू करने जा रही थी. राजस्थान के दो दिवसीय दौरे पर आए राहुल गांधी यहां महिला कांग्रेस के राज्य स्तरीय सम्मेलन को संबोधित कर रहे थे.

उन्होंने कहा, ‘सीबीआई राफेल सौदे में जांच की अपनी प्रक्रिया शुरू करने वाली थी जिससे प्रधानमंत्री डर गए और उन्होंने सीबीआई प्रमुख को हटा दिया.’’ उन्होंने आरोप लगाया कि प्रधानमंत्री ने रक्षा मंत्रालय से परामर्श किए बिना ही राफेल सौदे के टेंडर को बदल डाला. राहुल ने कहा, ‘रक्षा मंत्रालय ने, वायुसेना ने सालों तक इस टेंडर पर काम किया, बिना रक्षा मंत्री से पूछे, बिना रक्षा मंत्रालय से पूछे, बिना वायुसेना से पूछे नरेंद्र मोदी जी ने 30 हजार करोड़ रुपए का ठेका बदल दिया.

सत्ता के भूखे लोग पर्रिकर को मुख्यमंत्री बने रहने के लिए मजबूर कर रहे: वेलिंगकर

डर गए प्रधानमंत्री !
यह स्पष्ट रूप से गैर कानूनी काम है और प्रधानमंत्री बच नहीं सकते. सीबीआई जांच की कार्रवाई शुरू करने जा रही थी और प्रधानमंत्री डर गए, घबरा गए कि सीबीआई की जांच शुरू हो गयी तो दूध का दूध पानी का पानी हो जाएगा.’’ राहुल ने कहा, ‘‘प्रधानमंत्री सीबीआई के प्रमुख को हटा ही नहीं सकते क्योंकि हटाना है तो तीन लोगों (प्रधानमंत्री, प्रधान न्यायाधीश और नेता प्रतिपक्ष) को यह फैसला करना होगा.

उन्होंने आरोप लगाया कि प्रधानमंत्री ने सीबीआई प्रमुख को हटाने का फैसला डर के मारे लिया क्योंकि ‘चौकीदार’ को लगा कि अगर जांच हो गयी तो पूरे देश को पता लग जाएगा कि ‘चौकीदार’ ने ही 30 हजार करोड़ रुपए की चोरी करके यह अनिल अंबानी को दिया है.’ इसके साथ ही राहुल ने कांग्रेस में महिलाओं की भागीदारी बढ़ाने पर जोर दिया. वह इसके बाद सीकर में कांग्रेस की सकंल्प महारैली को संबोधित करेंगे. (इनपुट भाषा)

मुजफ्फरपुर कांड: सुप्रीम कोर्ट ने CBI की रिपोर्ट को ‘भयानक’ और ‘डरावना’ बताया