नई दिल्लीः केंद्रीय मंत्री प्रकाश जावड़ेकर ने आज लॉकडाउन और कोरोनावायरस को लेकर कई अहम बातें कहीं. उन्होंने कहा इस समय पूरी दुनिया कोरोना वायरस की वैक्सीन खोजने के काम में लगी हुई और जब तक हमें वैक्सीन नहीं मिल जाती तो हमें कोविड-19 के साथ ही अपनी जिंदगी बितानी पड़ेगी. Also Read - Air India Booking: जिन लोगों की फ्लाइट हुई रद्द वो 24 अगस्त तक दोबारा ले सकते हैं टिकट, नहीं देना होगा एक्स्ट्रा चार्ज: एयर इंडिया

केंद्रीय मंत्री ने कहा कि यह वायरस चीन से आया लेकिन अभी तक इसकी दवा नहीं आई है इसलिए हमें तब तक इसके खत्म नहीं मानना चाहिए और यह जरूरी हो जाता है कि हम मास्क का प्रयोग करें और समय समय पर अपने हांथों को धोते रहें. उन्होंने कहा कि हमें सोशल डिस्टेंसिंग के नियमों का पालन भी ठीक प्रकार से करना चाहिए. Also Read - प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष अजय कुमार लल्लू की गिरफ्तारी को लेकर बोलीं प्रियंका गांधी- इंसाफ मिलने तक लड़ेंगे

उन्होंने कहा इतने दिनों के प्रयासों के बाद अब लगता है कि इस भारत में इस महामारी का बुरा वक्त गुजर गया है लेकिन अभी भी यह बीमारी पूरी तरह से खत्म नहीं हुई है. उन्होंने कहा कि अन्य देशों की तुलना में हमारे यहां बहुत कम लोग इस वायरस से ग्रसित हुए यह दर्शाता है कि कोरोना के खिलाफ लड़ाई मे भारत की रणनीति दूसरे देशों से कहीं बेहतर थी.

उन्होंने कहा कि इस महामारी से बचने के लिए पीएम नरेंद्र मोदी द्वारा सुझाए गए वाक्य दो गज की दूरी बहुत जरूरी को भी फॉलो करना चाहिए. उन्होंने कहा कि हांथ धोना, मास्क लगाना, फिजिकल डिस्टेंस मेंटेन करना जैसी अहम बातों को समाज ने चालीस दिन में सीख लिया है.

पश्चिम बंगाल पर नीशाना साधते हुए प्रकाश जावड़ेकर ने कहा कि कुछ लोगों को भारत से युद्ध करना पसंद है लेकिन हमें युद्ध में कोई रुचि नहीं है. हम हमेशा समस्या का सामाधान तलाशने में विश्वास करते हैं.

दुनिया का चीन के प्रति रुख को लेकर उन्होंने कहा कि भारत के लिए यह एक बेहद अच्छा अवसर है. हमें यह देखना चाहिए कि हमें देखना होगा कि हम इसका लाभ कैसे लेते हैं. उन्होंने कहा कि भारत में सभी कंपनियों का स्वागत है