नई दिल्ली। दिल्ली के मुख्य सचिव अंशु प्रकाश से बदसलूकी का मामला तूल पकड़ता जा रहा है. आईएएस दानिक्स और अधीनस्थ सेवा कर्मचारी संघ काम नहीं करने की बात पर अड़ा है. वहीं इस मामले में अह गृह मंत्रालय ने भी रिपोर्ट तलब की है. उधर, आरोप-प्रत्यारोप का सिलसिला भी तेज हो गया है. आप नेता-विधायक जहां मुख्य सचिव पर आरोप लगा रहे हैं वहीं, कर्मचारी काम के बहिष्कार पर अड़े हैं. Also Read - यूपी में AAP सांसद पर राजद्रोह का केस, संजय सिंह बोले- हम देशद्रोही हैं तो जेल में डाल दिया जाए

Also Read - VIDEO: कई दलों के सांसदों ने राज्‍यों को GST के भुगतान के लिए गांधी प्रतिमा के सामने किया प्रदर्शन

दिल्ली प्रशासनिक अधीनस्थ सेवा अध्यक्ष डीएन सिंह ने मुख्य सचिव अंशु प्रकाश से कथित मारपीट पर कहा कि जब तक इस मामले में कार्रवाई नहीं होती, हम काम पर नहीं लौटेंगे. आज हम इसके विरोध में राजघाट पर कैंडल मार्च निकालेंगे. गृह मंत्री ने भी इस पर रिपोर्ट तलब की है. Also Read - राजनाथ सिंह का बयान- चीन ने भारत के इतने भू-भाग पर किया है कब्जा, समझौते का लगातार कर रहा उल्लंघन

ये भी पढ़ें- CM के सामने हुई चीफ सेक्रेटरी से कथित गुंडागर्दी, ब्‍यूरोक्रेट्स हड़ताल पर

वहीं, इस घटना पर गृह मंत्री राजनाथ सिंह ने दुख जताया. उन्होंने कहा कि दिल्ली सरकार के मुख्य सचिव के साथ जो हुआ है उससे मैं आहत हूं. सरकारी अफसरों को इज्जत के साथ और बिना किसी डर के काम करने दिया जाना चाहिए. गृह मंत्रालय ने उपराज्यपाल से इस संबंध में रिपोर्ट मांगी है. इस मामले में न्याय किया जाएगा. आईएएस दानिक्स और अधीनस्थ सेवाओं के प्रतिनिधियों ने आज मुझसे मुलाकात की थी और पूरे मामले से अवगत कराया था.

जातिवादी सियासत भी शुरू

उधर, इस मामले ने जातिगत सियासत का रूप ले लिया है. आप विधायक प्रकाश जरवाल ने कहा कि हमने मुख्य सचिव के खिलाफ एससी-एसटी आयोग में शिकायत दर्ज कराई है. जरवाल ने कहा, हमने उनसे कहा कि लोगों को दवा जैसी आधारभूत सुविधाएं नहीं मिल रही हैं. इस पर मुख्य सचिव चीखते हुए बोले कि मैंने दलितों की ठेकेदारी नहीं ले रखी है. उनका गुस्सा आसमान पर था. उन्होंने कहा कि तुम विधायक बनने लायक नहीं हो, मैं सिर्फ एलजी को जवाब दूंगा.

खेतान ने कहा, दंगे जैसे हालात थे

वहीं, मुख्य सचिव से कथित मारपीट के मुद्दे पर आप नेता आशीष खेतान ने कहा कि वहां दंगे जैसे हालात थे. वहां भारी भीड़ जमा हो गई थी जो हिंसक हो उठी थी और नारेबाजी कर रही थी. हमें नहीं पता कि वो कौन लोग थे. सबकुछ सीसीटीवी पर है, इससे सब साफ हो जाएगा. इस दौरान पुलिस मूकदर्शक बनी हुई थी.