नई दिल्ली. जर्मनी की एक प्रवासी भारतीय ने गुजरात में अपनी पैतृक जमीन मुंबई-अहमदाबाद बुलेट ट्रेन परियोजना (Bullet Train Project) के लिए सौंपी है. यह रेलवे की ओर से इस परियोजना के लिए राज्य में अधिग्रहित की गई जमीन का पहला हिस्सा है. यह जानकारी नेशनल हाई स्पीड रेल कार्पोरेशन लिमिटेड (एनएचएसआरसीएल) के एक अधिकारी ने शुक्रवार को दी. अधिकारी ने बताया कि सविता बेन जर्मनी में एक भारतीय रेस्त्रां चलाती हैं. वह मूल रूप से चनसाड गांव से हैं और 33 वर्ष पहले विवाह के बाद जर्मनी चली गई थीं. चनसाड में एनएचएसआरसीएल को 11.94 हेक्टेयर निजी जमीन की जरूरत थी और NRI सविता बेन ने अपनी जमीन 30,094 रुपए में बेच दी. Also Read - क्या है भारत की बुलेट ट्रेन परियोजना का ताजा हाल? रेलवे ने कहा- तीन से छह महीने में पता चलेगा

Also Read - Bullet Train Project: बुलेट ट्रेन की सवारी के लिए बढ़ सकता है इंतजार, परियोजना के काम में लगा ब्रेक!, जानिए क्या है कारण

दौड़ने से पहले ही पटरी से उतरती दिख रही है बुलेट ट्रेन परियोजना Also Read - जिग्नेश मेवानी ने 'बुलेट ट्रेन परियोजना' को लेकर पीएम मोदी पर साधा निशाना

एनएचएसआरसीएल के प्रवक्ता धनंजय कुमार ने कहा, ‘‘वह जमीन परियोजना के लिए देने के लिए ही विमान से भारत आईं. हम इसके लिए उनके अत्यंत आभारी हैं कि वह इसके लिए तैयार हुईं. वह वापस जर्मनी लौट गईं जहां वह अपने पुत्र के साथ रहती हैं और वहां एक रेस्त्रां चलाती हैं.’’ उन्होंने कहा, ‘‘यह जमीन का पहला टुकड़ा है जो हमने परियोजना के लिए राज्य में अधिग्रहित किया है.’’ गुरुवार को एनएचएसआरसीएल ने महाराष्ट्र के ठाणे जिले के पाये गांव में 0.29 हेक्टेयर निजी जमीन परियोजना के लिए अधिग्रहित की और कुल 3,32,76,468 रूपये का मुआवजा चार प्लाट स्वामियों को दिया.’’

PM मोदी के ड्रीम प्रोजेक्ट पर संकट, आम और चीकू के बाग में उलझी बुलेट ट्रेन

धनंजय कुमार ने कहा, ‘‘विक्रय पत्र पर हस्ताक्षर हो गए हैं और आज राशि दस्तावेज पर हस्ताक्षर होने के तीन घंटे के भीतर बैंक खाते में हस्तांतरित कर दी गई.’’ 508 किलोमीटर लंबे गलियारे के लिए गुजरात और महाराष्ट्र में करीब 1400 हेक्टेयर जमीन की जरूरत होगी, जिसमें से 1120 हेक्टेयर निजी स्वामित्व वाली है. करीब 6000 भूस्वामियों को मुआवजा देना होगा. एनएचएसआरसीएल अभी तक मुंबई में परियोजना के लिए मात्र 0.09 प्रतिशत जमीन अधिग्रहित कर पाया है. उसे जमीन अधिग्रहण मुद्दों को लेकर दोनों राज्यों में विरोधों का सामना करना पड़ रहा है. बुलेट ट्रेन के लिए रेलवे उन जिलों में सहमति शिविरों का आयोजन कर रहा है जहां उसे जमीन की जरूरत है ताकि वह किसानों को अपनी जमीन देने के लिए मना सके.

(इनपुट – एजेंसी)