चंडीगढ़: अपनी मांगों को लेकर पटियाला में शिक्षिकाओं के एक समूह ने बिना वेतन काटे अपनी नौकरी नियमित करने के लिए प्रदर्शन के तहत ‘करवा चौथ’ के अवसर पर मेहंदी से अपने हाथों पर ‘पंजाब सरकार मुर्दाबाद’ लिखा. शनिवार को उनका प्रदर्शन 21 वें दिन में प्रवेश कर गया.

यहां मतदाताओं को अनोखे तरीके से किया जा रहा जागरूक, सांप-सीढ़ी का खेल बना सहारा

इस बार का करवाचौथ आर्थिक सुरक्षा के नाम
सांझा अध्यापक मोर्चा के बैनर के तहत, शिक्षिकाओं ने मुख्यमंत्री के निर्वाचन क्षेत्र पटियाला में धरना दिया. शिक्षिकाओं का कहना है कि उन्होंने इस बार का करवाचौथ का व्रत पति के लिए नहीं बल्कि आर्थिक सुरक्षा व पहचान के लिए किया है. उनका कहना है कि आज का करवा चौथ वो अपने वेतन स्केल और नौकरी की सुरक्षा के लिए कर रही हैं.

डिबेट में ‘कंप्यूटर बाबा’ के आरोपों पर भिड़ गए साधु-संत, नर्मदा व गायों की दुर्दशा बनी मुद्दा

शिक्षिकाओं द्वारा सरकार से उनकी नौकरी को सवैतनिक नियमित करने की मांग को लेकर उन्होंने विरोध का ये अनोखा तरीका निकला, उन्होंने मेहंदी से हाथ पर लिखा ‘पंजाब सरकार मुर्दाबाद’. सर्व शिक्षा अभियान (एसएसए) के तहत कार्यरत शिक्षिका अनु के मुताबिक, ‘‘करवा चौथ का दिन पतियों के लंबी जीवन और सलामती के लिए किया जाता है लेकिन हम आज करवा चौथ अपने वेतन स्केल और नौकरी की सुरक्षा के लिए कर रहे हैं.’’ उन्होंने कहा, ‘‘यह करवा चौथ पर पंजाब सरकार के खिलाफ प्रदर्शन करने का हमारा तरीका है.’’ (इनपुट एजेंसी)