नई दिल्ली: सरकार ने भारतनेट परियोजना के तहत सभी गांवों तक ब्रॉडबैंड इंटरनेट कनेक्शन सुविधा पहुंचाने के लिए 19,041 करोड़ रुपये और आवंटित किए हैं. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 15 अगस्त, 2020 को घोषणा की थी कि 1,000 दिन में सभी गांवों को ब्रॉडबैंड से जोड़ दिया जाएगा.Also Read - बिहार में इंटरनेट बंदी से परेशान होकर कई लोगों ने मुकदमा दर्ज करवाया है. Watch Video

वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने सोमवार को विभिन्न क्षेत्रों के लिए प्रोत्साहन उपायों की घोषणा करते हुए कहा कि ब्रॉडबैंड कनेक्टिविटी के लिए 19,041 करोड़ रुपये और उपलब्ध कराए गए हैं जिससे 2020 से 1,000 दिन में सभी गांवों को ब्रॉडबैंड से जोड़ने के लक्ष्य को हासिल किया जा सके. Also Read - Agnipath Scheme: बिहार में आज नहीं हुई कोई घटना, 17 जिलों में इंटरनेट ठप, 804 अरेस्ट, 145 FIR दर्ज

सीतारमण ने कहा कि इससे भारतनेट परियोजना पर कुल खर्च बढ़कर 61,109 करोड़ रुपये पर पहुंच जाएगा. वित्त मंत्री ने कहा कि 31 मई तक 1,56,223 ग्राम पंचायतों को ब्राडबैंड नेटवर्क से जोड़ने के काम पर 42,068 करोड़ रुपये खर्च हुए थे. इस अतिरिक्त 19,041 करोड़ रुपये से शेष परियोजना को पूरा कर सकेंगे. भारतनेट परियोजना के तहत सरकार ने शुरू में सभी 2.52 लाख ग्राम पंचायतों को द्रुत गति की ब्रॉडबैंड सेवा से जोड़ने का लक्ष्य रखा था. प्रधानमंत्री ने बाद में इस परियोजना का विस्तार सभी गांवों तक करने की घोषणा की थी. Also Read - सड़क पर खड़े वाहन की तस्वीर भेजें और पाएं 500 रुपए, आसान होगा तरीका