नई दिल्ली: प्रवर्तन निदेशालय को शाहीनबाग प्रदर्शनों के तार पोपुलर फ्रंट ऑफ इंडिया (PFI) से जोड़ने वाले कुछ सबूतों का पता चला है. दिल्ली विधानसभा चुनाव (Delhi Assembly Election 2020) से पहले सामने आने वाली इस सूचना का संबंध पीएफआई के साथ आम आदमी पार्टी (Aam Aadmi Party) और कांग्रेस के कुछ बड़े नेताओं के साथ भी है. ईडी सूत्रों के अनुसार, केंद्रीय जांच एजेंसी ने पीएफआई का कुछ अन्य संगठनों के साथ संबंधों का पता लगाया है, जिसमें आप के कुछ बड़े नाम भी शामिल हैं. Also Read - West Bengal Assembly Election: कांग्रेस का ममता बनर्जी को बड़ा ऑफर, कहा- पश्चिम बंगाल में मिलकर चुनाव लड़े TMC, बीजेपी से...

ईडी ने इसके अलावा पीएफआई के साथ भीम पार्टी के संबंधों पर जांच शुरू कर दी है. ईडी सूत्रों ने पाया कि 120.5 करोड़ रुपये 17 विभिन्न बैंकों के कुल 73 बैंक खातों में भेजा गया, जिसमें से 27 बैंक खाते पीएफआई, नौ बैंक खाते रेहाब इंडिया फाउंडेशन (आरआईएफ) और कुछ खाते निजी लोगों व संस्थानों द्वारा संचालित है. Also Read - कृषि कानूनों के खिलाफ कांग्रेस का प्रदर्शन, राहुल-प्रियंका भी हुए शामिल, कहा- पूंजीपतियों को फायदा पहुंचा रही बीजेपी

केजरीवाल की नई चुनौती, कहा- ‘अमित शाह शाहीन बाग़-शाहीन बाग़ कर रहे हैं तो मैं इस पर भी बहस को तैयार’ Also Read - राहुल गांधी की अपील- पेट्रोल-डीज़ल के बढ़ते जा रहे दाम, किसान भी परेशान, सरकार के खिलाफ 'सत्याग्रह' में शामिल हों लोग

ईडी सूत्रों ने यह भी पता लगाया कि इस दौरान बड़ी संख्या में नगद के जरिए डोनेशन दिया गया, जिसमें से एक तिहाई डोनेशन को पीएफआई के शाहीनबाग स्थित राष्ट्रीय मुख्यालय में रखा गया है. जांच से पता चला कि पीएफआई दिल्ली इकाई के अध्यक्ष मोहम्मद परवेज अहमद आप और कांग्रेस के कई नेताओं के संपर्क में थे.

जनवरी में, ईडी ने सीएए-विरोधी प्रदर्शनों के लिए पीएफआई और आरएफआई को 120 करोड़ रुपये के फंडिंग के सबूत जुटाए थे, जोकि मुख्यत: दिल्ली के शाहीनबाग क्षेत्र के लिए थे. ईडी ने पहले ही पीएफआई और आरएफआई के बैंक खातों में पैसे भेजने वाले लोगों की जानकारी के लिए पश्चिमी उत्तरप्रदेश में अपनी कई टीमों को भेजा है.