नई दिल्ली: अगले साल होने वाले लोकसभा चुनाव को लेकर प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने रविवार को ‘अजेय भारत, अटल भाजपा’ का नारा दिया और कहा कि 2019 के चुनाव में बीजेपी को कोई चुनौती नजर नहीं आती क्योंकि पार्टी सत्ता को कुर्सी के रूप में नहीं देखती, बल्कि सत्ता को जनता के बीच में काम करने का उपकरण समझती है. प्रधानमंत्री ने 2019 के लोकसभा चुनाव को मद्देनजर रखते हुए कहा, ”हमें चुनौती कहीं नजर नहीं आती.” उन्होंने कहा कि लोकतंत्र में विपक्ष होना चाहिए, लेकिन उन्हें दुख है कि जो लोग सत्ता में विफल रहे, वे लोग विपक्ष में भी विफल रहे. मोदी ने कहा कि स्वस्थ लोकतंत्र में विपक्ष को सवाल पूछना चाहिए, जवाबदेही के बारे में चर्चा करनी चाहिए, लेकिन ऐसा नहीं हो रहा है.

राष्ट्रीय कार्यकारिणी की बैठक में अमित शाह का कांग्रेस पर निशाना, बीजेपी ‘मेकिंग इंडिया’ में जुटी तो कांग्रेस ‘ब्रेकिंग इंडिया’ में

केंद्रीय मंत्री रविशंकार प्रसाद ने राष्ट्रीय कार्यकारणी की बैठक के दूसरे दिन प्रधानमंत्री मोदी के समापन संबोधन के बारे में मीडियाकर्मियों को जानकारी देते हुए बताया कि प्रधानमंत्री ने कहा कि गुजरात में भाजपा दो दशकों से अधित समय से सत्ता में हैं, क्योंकि पार्टी सत्ता को सेवा करने का साधन मानती है.

2019 के चुनाव में अमित शाह के हाथों में ही होगी बीजेपी की कमान, पार्टी संगठन के चुनाव देर से होंगे

‘अजेय भारत – अटल भाजपा’ का नारा
प्रसाद ने बताया कि पीएम मोदी ने पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी को श्रद्धांजलि देते हुए कहा कि अटल जी ने भाजपा के विचार, संस्कार और नेतृत्व को एक नई ऊंचाई दी. उन्होंने कहा कि आज पार्टी का सूरज तो चला गया, लेकिन उनके जैसे कार्यकर्ताओं के रूप में जो सितारें हैं, उन्हें अपनी चमक बढ़ाकर विचारधारा के प्रकाश को आगे फैलाना है.मोदी ने राष्ट्रीय कार्यकारणी में अपने भाषण में ‘अजेय भारत – अटल भाजपा’ का नारा दिया. पीएम मोदी ने कहा, ” हम सत्ता को कुर्सी के रूप में नहीं देखते, बल्कि सत्ता को जनता के बीच में काम करने का उपकरण समझते है.”

एक दूसरे को देख नहीं सकते, वो गले लगने को मजबूर
विपक्ष के महागठबंधन को लेकर मोदी ने विपक्ष पर परोक्ष निशाना साधते हुए कहा, ”जो लोग एक दूसरे को देख नहीं सकते, एक साथ चल नहीं सकते, आज वो गले लगने को मजबूर हैं क्योंकि पार्टी की लोकप्रियता बढ़ी है और काम की स्वीकार्यता बढ़ी है.” मोदी ने कहा कि आजकल महागठबंधन की चर्चा है. जो लोग एक दूसरे को देख नहीं सकते, एक दूसरे के साथ चल नहीं सकते, आज एक दूसरे को गले लगाने को मजबूर हैं. उनकी यही मजबूरी हमारी सफलता है. मोदी ने कहा कि महागठबंधन का मतलब है, नेतृत्व का पता नहीं, नीति अस्पष्ट और नियत भ्रष्ट.

सिर्फ मोदी नहीं इस वजह से चुनाव हार रही है कांग्रेस? घर-घर जाकर दूर करेगी अपनी समस्या

कांग्रेस पर निशाना, वे न तो मुद्दों पर लड़ते हैं, न काम पर
कांग्रेस पर निशाना साधते हुए उन्होंने कहा कि दिक्कत यह है कि वे न तो मुद्दों पर लड़ते हैं, न काम के विषय पर लड़ते हैं, वे झूठ पर लड़ते हैं. ”झूठ बोलना, झूठ गढ़ना और झूठ दोहराना ही उनका काम रह गया है.” पीएम ने कहा, ”हमारी समस्या यह है कि हमें झूठ के साथ लड़ना नहीं आता. लेकिन अब एक रणनीति के साथ हम उनके झूठ से भी लड़ेंगे.” पीएम ने कांग्रेस के बारे में कहा कि आज छोटे-छोटे दल भी कांग्रेस के नेतृत्व को नहीं स्वीकार कर रहे हैं. कई दल तो कांग्रेस के नेतृत्व को बोझ समझते हैं.