कोलकाता : पश्चिम बंगाल में साम्प्रदायिकता के लिए कोई स्थान नहीं है ये बात प्रदेश की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने वार्ता और विकास के लिए सांस्कृतिक विविधता विश्व दिवस के अवसर पर कही. उन्होंने कहा कि उनके राज्य में सांप्रदायिकता के लिए कोई जगह नहीं है. राज्य अनकेता में एकता के सिद्धांत में विश्वास रखता है. पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने ये बात सोमवार को ट्वीट के जरिए कही. Also Read - Bihar Araria District Chunav Result 2020 Live: अररिया से RJD को मिली जीत, जानें बाकी 5 सीटों पर कौन रहा आगे


भाजपा पर तनाव भड़काने का आरोप
गौरतलब है कि पश्चिम बंगाल में सांप्रदायिक हिंसा की कुछ घटनाएं हुई थीं. वर्ष 2016 में हावड़ा जिले के धूलागढ़ में और मार्च 2017 में आसनसोल तथा रानीगंज में भी साम्प्रदायिक हिंसा हुई थी. उस समय मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने इन घटनाओं को स्थानीय मसला बताया था न कि सांप्रदायिक समस्या. अब ममता बनर्जी ने आरोप लगाया है कि भाजपा हिन्दुत्व की विचारधारा को हवा देने के लिए सांप्रदायिक तनाव भड़का रही है. संयुक्त राष्ट्र ने विविधता के मुद्दों के प्रचार के लिए इस दिवस पर अंतरराष्ट्रीय अवकाश के रूप में मंजूरी दी है. यह दिवस हर वर्ष मनाया जाता है. ‘ वार्ता और विकास के लिए सांस्कृतिक विविधता विश्व दिवस ‘ के अवसर पर ट्वीट के जरिए परोक्ष रूप से बीजेपी पर निशाना साधते हुए ममता बनर्जी ने कहा हमारी सरकार हमेशा से अनेकता में एकता के सिद्धांत में यकीन रखती है. बंगाल के लोगों के दिल और दिमाग में सांप्रदायिकता के लिए कोई जगह नहीं है.
( इनपुट एजेंसी )