नई दिल्ली: पति और बच्चों को छोड़ धर्म बदल कर निकाह करने वाली एक महिला की उसी के शौहर ने गला दबाकर हत्या कर दी. पुलिस सूत्रों ने गुरुवार को बताया कि दिल्ली के ब्रह्मपुरी निवासी निधि शर्मा ने पिछले साल 17 जुलाई को पति और दो बच्चों को छोड़कर दिल्ली में काम करने वाले बिजनौर निवासी इंतजार से साथ निकाह कर लिया था. इससे पहले उसने धर्म बदलकर अपना नाम इकरा रख लिया था. शादी के बाद वह दिल्ली के जाफराबाद में रहने लगी थी.

उधर, निधि के पति संजय ने 24 जुलाई को निधि की गुमशुदगी की रिपोर्ट न्यू उस्मानपुर थाने मे दर्ज करायी थी. सूत्रों के मुताबिक इंतजार बुधवार को कार से निधि उर्फ इकरा का शव लेकर बिजनौर आया और दफनाने की तैयारी करने लगा. इंतजार की पहली बीवी अफरोज के पिता को जब इस मामले का पता चला तो उन्होंने पुलिस को सूचना दे दी.

पुलिस ने इंतजार को गिरफ्तार कर निधि का शव बरामद कर लिया है. कोतवाल विजेन्द्रपाल राणा के अनुसार इंतजार ने गला घोंटकर निधि की हत्या की है. उन्होने बताया कि इंतजार ने पूछताछ में कहा है कि उसकी निधि के साथ फेसबुक के जरिये जान पहचान हुई थी.

एक अन्य घटना में बिजनौर में अदालत ने दहेज की मांग को लेकर पत्नी को आत्महत्या के लिए मजबूर करने के मामले में एक व्यक्ति को सात साल कारावास की सजा सुनाई है. न्यायाधीश बलराज सिंह ने 2013 के इस मामले में कामिल हसन को बुधवार को दोषी ठहराया और उस पर 5,000 रुपए जुर्माना भी लगाया. सरकारी वकील सीताराम आर्य ने कहा कि हसन को आईसपीसी की धारा 306 (आत्महत्या के लिए उकसाने) के तहत दोषी ठहराया गया. वकील ने बताया कि हसन की पत्नी नगमा ने 24 जुलाई 2013 को टिस्सा गांव में अपने घर में पंखे से लटककर आत्महत्या कर ली थी. पीड़िता के पिता द्वारा दायर शिकायत के अनुसार हसन दहेज के लिए नगमा को परेशान करता था.