Coronavirus in India एसबीआई रिसर्च द्वारा सोमवार को प्रकाशित एक रिपोर्ट में कहा गया है कि अगस्त में देश में कोविड की तीसरी लहर आने की संभावना है और यह सितंबर में चरम पर होगी. ‘कोविड -19: द रेस टू फिनिशिंग लाइन’ नाम से प्रकाशित, रिपोर्ट में आगे भारत में दूसरी लहर के बारे में बताया गया और कहा गया कि यह 7 मई को चरम पर थी. भारत में दूसरी लहर अप्रैल में आई और मई में चरम पर थी, जिससे दिल्ली, महाराष्ट्र, केरल और अन्य राज्यों में हजारों परिवार प्रभावित हुए.Also Read - इस साल हो सकती है चाबहार बंदरगाह पर चार देशों की बैठक: विदेश मंत्रालय

रिपोर्ट में कहा गया है कि वर्तमान आंकड़ों के अनुसार, भारत में जुलाई के दूसरे सप्ताह के आसपास लगभग 10,000 नए मामले आ सकते हैं. हालांकि, अगस्त के दूसरे पखवाड़े तक मामले बढ़ने शुरू हो सकते हैं. रिसर्च के बाद एसबीआई ने अपनी रिपोर्ट में कहा है कि 21 अगस्त के बाद से कोविड-19 की तीसरी लहर बढ़ने लगेगी. लोगों को चेताते हुए रिपोर्ट में कहा गया है कि भारत में अगस्त में कोविड-19 की तीसरी लहर आएगी और सितंबर में पीक पर होगी. Also Read - केरल बना कोरोना का गढ़, लेफ्ट सरकार की मदद के लिए केंद्र भेजेगी 6 सदस्यीय टीम

इसमें कहा गया है कि अगस्त के दूसरे हफ्ते से कोरोना के मामले तेजी से बढ़ने लगेंगे. ग्लोबल आंकड़ों से पता चलता है कि औसतन तीसरी लहर के पीक मामले दूसरी लहर के समय के पीक मामलों के लगभग 1.7 गुना होते हैं. हालांकि पिछले रिकॉर्ड को देखा जाए तो कम से कम एक महीने बाद कोरोना की तीसरी लहर 21 अगस्त से बढ़ने लगेगी. Also Read - Lockdown in Kerala News: केरल में इन तारीखों को लगेगा फुल लॉकडाउन, केंद्र भेज रहा टीम

बता दें कि देश में कोविड-19 के एक दिन में 39,796 नये मामले सामने आने के बाद इस बीमारी की चपेट में आए लोगों की कुल संख्या 3,05,85,229 हो गई जबकि 723 और मरीजों की मौत के बाद मृतक संख्या बढ़कर 4,02,728 पर पहुंच गई है.

केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय के सोमवार की सुबह आठ बजे तक अद्यतन किए गए आंकड़ों के मुताबिक देश में उपचाराधानी मरीजों की संख्या और घटकर 4,82,071 हो गई है और यह कुल संक्रमण का 1.58 प्रतिशत है जबकि कोविड से स्वस्थ होने की राष्ट्रीय दर सुधरकर 97.11 प्रतिशत हो गई है. मंत्रालय ने बताया कि 24 घंटे की अवधि में उपचाराधीन मामलों की संख्या 3,279 घटी है.