नई दिल्ली: बीजिंग ने आधिकारिक तौर पर नई दिल्ली के साथ भारत-चीन अनौपचारिक शिखर सम्मेलन में भाग लेने की पुष्टि कर दी है. इस दौरान प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और चीनी राष्ट्रपति शी जिनपिंग की चेन्नई के नजदीक ममल्लापुरम (Mamallapuram) में मेजबानी की व्यवस्थाएं पूरे जोरों से हो रही हैं. इस दौरान 43 विशेष अधिकारी और 10 हजार पुलिसकर्मी दोनों देशों के नेताओं की सुरक्षा के लिए तैनात रहेंगे. इतना ही नहीं सुरक्षा के लिहाज से 500 सीसीटीवी कैमरों का भी इस्तेमाल किया जाएगा. पूरे शहर को दोनों देशों के नेताओं के स्वागत के लिए सजाया गया है.

तमिलनाडु के मुख्य सचिव के शानमुगम द्वारा जारी एक आदेश के अनुसार, राज्य सरकार ने मोदी-शी शिखर सम्मेलन के लिए 9 आईएएस अधिकारियों और विभिन्न विभागों के 34 वरिष्ठ अधिकारियों को नोडल अधिकारी के रूप में नियुक्त किया है. ये 34 अधिकारी IAS अधिकारियों के साथ यह सुनिश्चित करेंगे कि चीनी राष्ट्रपति का काफिला सहज तरीके से शहर में प्रवेश कर सके ताकि दोनों नेताओं के बीच होने वाली बैठक में किसी प्रकार की कोई बाधा उत्पन्न ना हो.

शुक्रवार को भारत आएंगे चीनी राष्ट्रपति शी जिनपिंग, केवल दो दिन पहले हुई आधिकारिक घोषणा

मुख्य सचिव के आदेश के अनुसार, राज्य सरकार ने एयरपोर्ट से मामल्लपुरम तक 34 स्वागत स्थलों को चिह्नित किया है. इस यात्रा की शुरुआत एयरपोर्ट के गेट नंबर 5 से होगी और इसका अंत ममल्लापुरम शोर मंदिर के प्रवेश द्वार पर होगी. हवाई अड्डे के करीब में होटल ट्राइडेंट, अलंदुर में सीएसआई क्राइस्ट चर्च, गुइंडी में एमएसएमई का कार्यालय, गुइंडी में एसपीआईसी के पास धीरन चिन्नामलाई की प्रतिमा, आईटीसी ग्रांड चोल, राजभवन, मध्य कैलाश, टेडल पार्क, कंधारचावड़ी, ओएमआर के सामने भी इन नेताओं के स्वागत की व्यवस्था की गई है.

यह काफिला पल्लवरम रेडियल रोड जंक्शन, करापक्कम टैंक और शोलिंगनल्लूर टोल प्लाजा. ईसीआर पर, स्वागत स्थल पनायूर, ईसीआर टोल गेट, कनाथुर, मुत्तुकडू, होटल ताज, कोवलम, तिरुविदन्थाई, क्रोकोडाइल पार्क, नेम्मेली डिसालिएंट प्लांट, पट्टिपुलम, टाइगर केव, ममल्लापुरम प्रवेश द्वार, ममल्लापुरम नगर पंचायत कार्यालय होते हुए पंच रथों (महाभारत के योद्धा अर्जुन का तपस्यास्थल) से होकर गुजरेगा.

कश्मीर पर चीन ने पाक को दिया झटका, जिनपिंग की भारत यात्रा से पहले कहा-द्विपक्षीय ढंग से हो इस मुद्दे का समाधान

चेन्नई हवाई अड्डे से मामल्लपुरम तक के मार्ग पर लगभग 500 सीसीटीवी कैमरे लगाए गए हैं. इसके अलावा, पुराने महाबलीपुरम रोड (ओएमआर) और ईस्ट कोस्ट रोड (ईसीआर) पर रणनीतिक स्थानों पर कैमरों से लैस वाहनों को भी तैनात किया जाएगा. राज्य सरकार ने मार्ग पर बहुपरत सुरक्षा सुनिश्चित की है. राज्य पुलिस, राज्य पुलिस की एक विशेष बटालियन, चीनी सुरक्षा कर्मी और भारतीय प्रधानमंत्री की सुरक्षा करने वाले विशेष सुरक्षा समूह (एसपीजी) बहुपरत सुरक्षा का हिस्सा हैं.

पुलिस गुरुवार को ओएमआर और ईसीआर तक लगभग 500 सड़कों और गलियों को सील कर देगी. पुलिस ने भीड़ नियंत्रण के 2,500 बैरिकेड्स लगाए हैं. सभी मेहमान खास होटलों में ठहराए जाएंगे. इस दौरान सभी कर्मचारियों और होटल में जाने वाले मेहमानों की सुरक्षा जांच की जाएगी.