नई दिल्‍ली: मोदी सरकार ने अंतरिम बजट के जरिए गरीबों, मध्यम वर्ग, किसानों, मजदूरों और व्यापारियों को तोहफा दिया है. जो कि आगामी लोकसभा चुनाव के लिए काफी अहम साबित होने जा रहा है. क्‍योंकि मौजूदा समय में यही वह वोटर हैं, जो बीजेपी से दूर जा रहे थे, ऐसे में अंतरिम बजट के जरिए सबके लिए सौगातों की झड़ी लगा दी है. इसके अलावा गो-संवर्धन और मछली पालन योजना के जरिए केंद्र ने पूर्वोत्‍तर के मत्‍स्‍य पालकों को खुशी दी है, जो कि आगामी लोकसभा चुनाव में काफी अहम साबित होने जा रहे हैं.

प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि: पात्र किसानों को मार्च के पहले हफ्ते में मिलेंगे 2000 रुपये

मध्‍यम वर्ग को किया खुश
चुनावी साल में अधिक मतदाताओं को साधने के लिए मोदी सरकार ने नौकरीपेशा और आयकर दाताओं को सबसे बड़ा तोहफा आयकर छूट की सीमा में ढाई लाख से बढ़ाकर सीधे पांच लाख रुपये कर दिया है. पहली बार इनकम टैक्‍स में इतनी बढ़ोत्‍तरी की गई है, इसका असर सीधा साढ़े तीन करोड़ इनकम टैक्‍स पेयर्स को होगा. क्‍योंकि बीते चार सालों के बजट में मोदी सरकार टैक्‍स स्‍लैब के बदलाव को लेकर हमेशा से ही बचती रही थी.

Budget 2019: तीन किश्त में किसानों को मिलेंगे 6000, जानिए कब आएगा पहला पेमेंट

12 करोड़ किसानों को दिया तोहफा
अंतरिम बजट के जरिए मोदी सरकार ने 12 करोड़ सीमांत व छोटे किसानों को प्रधानमंत्री किसान सम्‍मान निधि योजना के जरिए तोहफा दिया है, इसके तहत सरकार किसानों को सालाना छह हजार रुपये देगी, जो कि तीन किश्‍तों में मिलेगी. लोकसभा चुनाव से पहले मोदी सरकार किसानों को योजना के तहत पहली किश्‍त मार्च महीने में जारी करने जा रही है. ऐसे में सरकार का यह कदम लोकसभा चुनाव के लिए काफी महत्‍वपूर्ण माना जा रहा है.

Budget 2019: वित्त मंत्री पीयूष गोयल बोले- बड़ी ‘डिफॉल्टर’ कंपनियों से की तीन लाख करोड़ रुपये की वसूली

42 करोड़ कामगार पर साधा निशाना
मोदी सरकार ने अंतरिम बजट के जरिए असंगठित क्षेत्र के 42 करोड़ कामगारों व श्रमिकों को भी साधते हुए तीन हजार रुपये हर महीने पेंशन देने के लिए प्रधानमंत्री श्रम योगी मानधन की शुरुआत की है. पहले पांच साल में दस करोड़ लोगों को इसका फायदा मिलेगा. इसके लिए मजदूरों को सौ रुपये हर महीने जमा करने होंगे.

पीएम नरेंद्र मोदी आज ममता बनर्जी के गढ़ पश्चिम बंगाल में करेंगे चुनावी रैली

57 करोड़ वोटरों तक पहुंचने का लक्ष्‍य
मोदी सरकार ने अंतरिम बजट के जरिए विपक्ष के उन वादों को नस्‍तेनाबूत कर दिया है, जो कि वो अगामी लोकसभा चुनाव में उठाने वाले थे. साथ ही सरकार ने अंतरिम बजट के जरिए यह साफ संदेश दे दिया है कि उनका पूरा फोकस गरीब, नौकरीपेशा और मध्‍यमवर्ग पर है. यहां पर एक बात गौर करने लायक है कि वित्‍तमंत्री ने लाभार्थियों की संख्‍या पर जोर देकर करीब 57 करोड़ वोटरों तक पहुंचने का लक्ष्‍य रखा है.